जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जबलपुर से लखनऊ के बीच चलने वाली एक मात्र ट्रेन चित्रकूट एक्सप्रेस को रेलवे ने तीन दिन रद्द करने का निर्णय लिया है। इसकी वजह झांसी मंडल के पटरियां की मरम्मत का काम होना बताया है। दिक्कत यह है कि जबलपुर से लखनऊ जाने वाली इस ट्रेन को रद करने के बाद तीन दिन जबलपुर से लखनऊ के बीच रेल संपर्क नहीं हो सकेगा। यात्रियों को जबलपुर से लखनऊ जाने और वहां से आने के लिए सड़क के रास्ते ही आना होगा। रेलवे ने जबलपुर-लखनऊ चित्रकूट एक्सप्रेस 13, 14 और 15 जुलाई को रद की गई है वहीं लखनऊ से जबलपुर आने वाली ट्रेन 12,13 और 14 जुलाई को रद रहेगा। इस दौरान ट्रेन में सफर करने वाले लगभग पांच हजार यात्रियों की टिकट रद हो गई है। रेलवे अब इन्हें टिकट का सौ फीसदी पैसा रिफंड करेगा।

विकल्पिक ट्रेन न होने से बढ़ी परेशानी

जबलपुर से लखनऊ के बीच रेल संपर्क को जोड़ने वाली यह एक मात्र ट्रेन है। इसे भी रेलवे ने तीन दिन के लिए रद किया है। जबलपुर से लखनऊ जाने और आने वालों के लिए बस की सुविधा भी नहीं है। यही वजह है कि अब लोगों को तीन दिन आने-जाने के लिए निजी वाहन का ही उपयोग करना होगा। दरअसल इस रूट पर यात्रियों की अधिक संख्या होने के बाद भी रेलवे ने दूसरी ट्रेन नहीं चलाई। इसको लेकर कई बार सामाजिक संगठन और आम जनों ने इस रूट पर एक और ट्रेन चलाने की मांग कई बार उठाई, लेकिन मांग पूरी नहीं हुई। हर बार रेलवे ने रूट खाली न होने की वजह से ट्रेन न चलाने की बात कही।

चार माह से लगातार रद हो रही अंबिकापुर

चित्रकूट के साथ जबलपुर रेलव मंडल ने एक बार फिर जबलपुर से अंबिकापुर के बीच चलने वाली इंटरसिटी को रद कर दिया है। यह ट्रेन पिछले चार माह से लगातार रद की जा रही है। हर बार इसे पटरियों की मरम्मत के नाम पर रद कर दिया जाता है, जबकि इस रूट पर यह एक मात्र ट्रेन है। इस ट्रेन के न चलने की वजह से पिछले चार माह से जबलपुर से अंबिकापुर के बीच रेल संपर्क टूटा हुआ है। जबलपुर मंडल ने अंबिकापुर इंटरसिटी एक्सप्रेस को 24 जून से 9 जुलाई तक के लिए रद्द कर दिया है।

यात्री सुविधा कम, दुविधा ज्यादा

- जबलपुर-लखनऊ के बीच लगभग 578 किमी का सफर है, जो ट्रेन से साढ़े 24 घंटे में पूरा होता है।

- इस रेल रूट पर एक मात्र ट्रेन चित्रकूट ही है, जिसमें हर दिन एक हजार से ज्यादा यात्री सफर करते हैं।

- हर दिन इस ट्रेन में स्लीपर कोच से लेकर एसी कोच तक में लंबी वेटिंग रहती है।

- इस वजह से यात्री तीन से चार माह पहले ही ट्रेन में अपना आरक्षण करा लेते हैं ।

- ट्रेन के छह फेरे रद हुए हैं, जिसमें लगभग पांच हजार यात्री का आरक्षण रद हुआ है।

- इस यात्रियों के यह सफर करने के लिए अब निजी वाहन के अलावा कोई विकल्प नहीं है

- इस रूट पर बस न चलने की वजह से परेशानी और आती है।

तीन दिन रद्द किया गया

पटरियों की मरम्मत का काम होने की वजह से चित्रकूट एक्सप्रेस को जुलाई में तीन दिन रद्द किया गया है। यात्रियों को काउंटर से ली गई टिकट का रिफंड लेने में किसी तरह की परेशानी न हो,इसकी व्यवस्थाएं की गई हैं।- विश्वरंजन, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close