जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रेलवे का हमेशा से ही संरक्षित और सुगम ट्रेन परिचालन के साथ ही अपने यात्रियों को सुरक्षित उनके गंतव्य तक पहुंचना का लक्ष्य रहा है, लेकिन पिछले दिनों भोपाल रेल मंडल की सीमा से लगे है रेलवे ट्रैक के पास ट्रेन के एसी कोच में लगी आग की घटना ने रेलवे को एक बार फिर यह सोचने पर विवश कर दिया है कि ट्रेन में सफर करने वाले यात्री अपने साथ ज्वलनशील पदार्थ ले जा रहे हैं या नहीं। ट्रेन में हो रहे हादसों को रोकने के लिए पश्चिम मध्य रेलवे अपनी सीमा से गुजरने वाली सभी ट्रेनों की जांच कर यह पता लगाएगा कि यात्री लगेज के साथ किस तरह की ज्वलनशील पदार्थ ले जाते हैं और इन्हें रोकने के लिए रेलवे बड़े स्तर पर कदम उठाएगा ।जबलपुर रेल मंडल के डीआरएम संजय विश्वास ने यात्रियों से अपील की है कि वह ट्रेन में किसी तरह का भी ज्वलनशील पदार्थ ना ले जाएं।

वहीं भोपाल मण्डल रेल प्रशासन इसी दिशा में लगातार काम कर रहा है। चलती गाड़ियों में धूम्रपान करने अथवा विस्फोटक एवं ज्वलनशील पदार्थ लेकर यात्रा करने वालों के कारण रेल संपत्ति की हानि और सह यात्रियों के जीवन को खतरा उत्पन्न होने की प्रबल संभावना रहती है।

इस प्रकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मिशन मोड में भोपाल मण्डल पर रेल सुरक्षा बल और टिकट जांच कर्मचारियों द्वारा संयुक्त रूप से गाड़ियों और रेलवे परिसरों में धूम्रपान करने तथा साथ में ज्वलनशील एवं विस्फोटक पदार्थ रखने वालों के खिलाफ गहन अभियान चलाया जा रहा है, साथ ही गाड़ी में पैंट्रीकार की भी जांच की जा रही है। पैंट्रीकार में किसी भी प्रकार के ज्वलनशील और विस्फोटक सामान पाए जाने पर रेलवे अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जाएगा।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local