जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर जब आने की अटकले है ऐसे में कॉलेजों में सत्यापन का दूरा दौर शुरू किया गया है। बीएड में प्रवेश लेने वाले ​अभ्यार्थियों को दोबारा दस्तावेज सत्यापन के लिए हेल्प सेंटर में पहुंचना पड़ रहा है। दूसरे शहरों से आने वाले ​अभ्या​र्थी बच्चों को साथ लेकर हेल्प सेंटर में घूम रहे हैं। इधर कॉलेजों में स्टॉफ कम होने से सत्यापन के कार्य में घंटों लग रहे हैं। जिस वजह से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।

उच्च शिक्षा विभाग ने बीएड कॉलेजों के लिए हेल्प सेंटर चिन्हित किए है। 21 नवंबर से सत्यापन की प्रक्रिया प्रारंभ हुई है। ये प्रक्रिया 28 नवंबर तक चलेगी। हर बीएड कॉलेजों में 100—100 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है अब इन सभी को प्रवेश के पश्चात दस्तावेजों का सत्यापन करवाने के निर्देश हुए है। कई अभ्यार्थी प्रवेश लेने के पश्चात अपने अपने जिलों में लौट गए थे उन्हें सत्यापन के लिए दोबारा आना पड़ रहा है। हेल्प सेंटर में दस्तावेजों में मूल टीसी और माइग्रेशन सर्टीफिकेट, अंकसूची का मिलान किया जा रहा है। इधर विद्यार्थी भी सत्यापन जल्दी करवाने की होड़ में लगे हुए है। जिस वजह से कॉलेज में भीड़ ज्यादा हो रही है। लंबी—लंबी कतार में अभ्यार्थी अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। कुछ महिलाएं तो अपने नवजात शिशुओं को लेकर पति के साथ सत्यापन करवाने पहुंची। एक महिला आयुषी दुबे ने बताया कि वो गांव में थी जैसे ही जानकारी मिली बच्चें के लेकर सत्यापन करवाने होमसाइंस कॉलेज पहुंच गई।

आनलाइन क्लास के बीच कैसे करे ड्यूटी: कॉलेजों में आनलाइन पढ़ाई हो रही है। ज्यादातर शिक्षकों का टाइम टेबिल आनलाइन कक्षाओं का बना हुआ है ऐसे में सत्यापन कार्य के लिए शिक्षक कम पढ़ रहे हैं। वहीं ज्यादारत शिक्षक इस काम से बच रहे हैं। उनको डर है कि कोरोना संक्रमण के बीच सत्यापन का कार्य करना जोखिम भरा होगा। इसलिए ड्यूटी नहीं कर रहे हैं। होमसाइंस कॉलेज में सात कॉलेजों के 700 विद्यार्थियों के दस्तावेज सत्यापित करने हैं। इस दौरान अलग—अलग दिन में कॉलेजवार विद्यार्थियो को बुलाया गया फिर भी कई कॉलेज के विद्यार्थी ​सत्यापन के लिए पहले ही पहुंच गए। इस वजह से अव्यवस्था भी बनी।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस