जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

चार माह की निद्रा के बाद कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी बुधवार को भगवान विष्णु के जागते ही शुभ कार्यों की शुरूआत हो जाएगी। इसी दिन से शादियों के ढोल भी गंूजने लगेंगे। जिसकी तैयारियां करने लोग बाजार पहुंच रहे हैं। हर तरफ खुशी और उल्लास देखा जा रहा है। देवउठनी एकादशी को गन्‍ना ग्यारस भी कहते हैं। जिसमें गन्‍ने का मंडप बनाकर भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है। इसके साथ ही तुलसी विवाह किया जाता है। पूजन में विशेष से भगवान के उठने का आह्वान किया जाता है।

मंदिरों में विशेष तैयारियां:

देवउठनी एकादशी को लेकर मंदिरों में विशेष रूप से तैयारियां की जा रही हैं। श्रीकृष्ण मंदिरों में विशेष रूप से भगवान श्रीकृष्ण और रुक्मिणी का विवाह रचाया जाता है। कई घरों में लोग भगवान का विवाह धूमधाम से करते हैं।

कोरोना से बचने रखना होगा ध्यान:

इस बार कोरोना संक्रमण का कहर है। ऐसे में घर से लेकर बाहर होने वाले आयोजनों के लिए सावधानी रखनी होगी। लोगों को शारीरिक दूरी के साथ मास्क भी लगाकर बाहर निकलना होगा।

नरसिंह मंदिर में होगा तुलसी विवाह:

नरसिंह मंदिर शास्त्री ब्रिज में तुलसी विवाह का आयोजन किया जा रहा है। शाम 4 बजे जगतगुरु डॉ. स्वामी श्यामदेवाचार्य महाराज के सानिध्य एवं स्वामी नरसिंहदास की उपस्थिति में अनुष्ठान होगा। नरसिंह मंदिर और गीताधाम शिष्य मंडल ने उपस्थिति की अपील की है।

ऐसे करें पूजन:

ज्योतिषाचार्य पंडित सौरभ दुबे ने बताया कि इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस दिन विष्णु जी को जगाने का आह्वान किया जाता है। इस दिन सुबह विष्णु जी के व्रत का संकल्प लिया जाता है फिर घर के आंगन में विष्णु जी के चरणों का आकार बनाया जाता है। लेकिन आंगन में धूप हो तो चरणों को ढक दिया जाता है। फिर ओखली में गेरू से चित्र बनाया जाता है और फल, मिठाई, ऋतुफल और गन्न्ा रखकर डलिया को ढक दिया जाता है। रात के समय घर के बाहर और जहां पूजा की जाती है वहां दिए जलाए जाते हैं। रात के समय विष्णु जी की पूजा की जाती है। साथ ही अन्य देवी-देवताओं की पूजा भी की जाती है। पूजा के दौरान सुभाषित स्त्रोत पाठ, भगवत कथा और पुराणादि का पाठ किया जाता है।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस