जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पश्चिम मध्य रेलवे मजदूर संघ में पिछले कुछ दिनों से पद के दुरूपयोग और भ्रष्टाचार को लेकर जमकर घमासान मचा हुआ है। शनिवार को यह घमासान खत्‍म हो गया। पमरे मजदूर संघ के अध्यक्ष रहे आरपी भटनाकर और कार्यकारी अध्यक्ष अमित भटनागर को संघ के वार्षिक अधिवेशन में सर्वसम्माति से निष्कासित कर दिया। जबलपुर समेत भोपाल और कोटा रेल मंडल के मजदूर संघ के पदाधिकारियों ने कोटा मंडल के सीएम उपाध्याय को पश्चिम मध्य रेलवे मजदूर संघ को अध्यक्ष नियुक्ति किया है।

जबलपुर रेल मंडल के सागर रेलवे स्टेशन के समीप हुए इस अधिवेशन में जबलपुर से बड़ी संख्या में संघ पदाधिकारी, सदस्य और कार्यकर्ता पहुंचे। इस दौरान पिता-पुत्र पर पदाधिकारियों ने वंशवाद और तानाशाह का आरोप लगाया। आयोजन में बड़ी संख्या में जबलपुर भोपाल और कोटा मंडल के सभी पदाधिकारी पहुंचे इस दौरान सभी ने एकमत पर निर्णय लिया और संघ को वंशवाद से मुक्त कराने के लिए अपनी सहमति दी।

सीएम उपाध्याय बने अध्यक्ष: इस दौरान एनएफआइआर के सहायक महामंत्री और संघ के महामंत्री अशोक शर्मा ने बताया कि संघ विरोधी गतिविधियों और भ्रष्टाचार के आरोपित संघ के पूर्व अध्यक्ष आरपी भटनागर और उनके पुत्र, जो रेलवे में कार्य नहीं करते, अमित भटनागर को संघ की उच्च स्तरीय बैठक में निलंबित कर तीन दिन में जवाब मांगा था, लेकिन वह नहीं दिया, जिसके बाद शनिवार को वार्षिक अधिवेशन में पिता-पुत्र को संघ के निष्कासित कर दिया है। मंडल सचिव डीपी अग्रवाल ने बताया कि सीएम उपाध्याय को भारी बहुमत से मजदूर संघ का अध्यक्ष चुना गया है। इस दौरान संयुक्त महामंत्री सतीश कुमार, अनुज तिवारी, अब्दुल खालिक, अनिता ग्रोवर, राजेश पांडे, अवधेश तिवारी आदि मौजूद रहे।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local