जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

साहब इन दिनों दफ्तर में फोन पर ज्यादा व्यस्त है। हर वक्त मैदानी अमले को फोन पर राजस्व का हिसाब किताब पूछ रहे हैं। कम वसूली वालों को फटकार रहे हैं कारण पूछते हैं। सहीं लोकेशन पता करने के लिए वीडियों काल पर बात तक कर रहे हैं। माह का आखिरी समय होने के कारण वसूली के लिए पूरे जतन किए जा रहे हैं। जबलपुर संभाग के मुख्य अभियंता आर के स्थापक इस तरकीब से अब तक 105 करोड़ रुवये जुटा चुके हैं।

दरअसल कोविड की वजह से बिजली विभाग में राजस्व वसूली बहुत कमजोर हुई है। ऐसे में कंपनी ने वसूली तेज करने के निर्देश दिए है। ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ सीधे कार्रवाही के निर्देश हुए है। इस वजह से मुख्य अभियंता मैदानी अमले को लगातार दवाब बनाकर वसूली में लगाए हुए है। फोन पर कार्यालयीन समय में क्या कर रहे है किसी से भी कभी भी बात करते हैं। एक इंजीनियरिंग ने घर से ही कहा कि फील्ड पर है लेकिन पीछे से लैंडलाइन फोन की घंटी सुनाई दी तो मुख्य अभियंता ने तत्काल इंजीनियरिंग को वीडियों काल पर बात करने को कहा। ऐसा करते ही इंजीनियर की पोल खुल गई। हालांकि मुख्य अभियंता ने उसे मौखिक चेतावनी देकर छोड़ दिया लेकिन वसूली में तेजी लाने की हिदायत दी। मुख्य अभियंता ने बताया कि बिल वसूली बढ़ गई है ऐसे में 30 नवंबर तक लक्ष्य हासिल करना है।

संभाग में 17 लाख उपभोक्ता:

पूर्व क्षेत्र​ विद्युत वितरण कंपनी के जबलपुर संभाग में करीब 17 लाख बिजली उपभोक्ता है इसमें से केवल 8.73 लाख बिजली उपभोक्ताओं ने ही बिजली का बिल अदा किया है। शेष ​उपभोक्ताओं से बिल वसूली के लिए बिजली कंपनी जुटी है। इसके लिए जगह—जगह बिजली के कनेक्शन काटने का सिलसिला जारी है।

ये है संभाग का हाल:

जबलपुर— 25.39 करोड़

जबलपुर ग्रामीण—10 करोड़

मंडला— 5.53 करोड़

डिंडौरी—1.69 करोड़

सीधी—1.30 करोड़

बालाघाट—10 करोड़

कटनी— 12 करोड़

छिंदवाड़ा—18 करोड़

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस