झाबुआ (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आयकर से जुड़े मामलों के लिए आयकरदाता वर्षो तक रतलाम के चक्कर लगाते रहे। तीन साल पहले जब झाबुआ में आयकर कार्यालय खुला तो आयकरदाताओं को काफी राहत मिली लेकिन कुछ दिनों पूर्व झाबुआ से हटाकर आयकर कार्यालय को धार कर दिया गया है। अब वहां का जिम्मा झाबुआ में रहे अधिकारी पीसी तिर्की को सौपा गया है।

झाबुआ को 2017-18 में आयकर कार्यालय की सौगात मिली। आयकरदाता खुश हो गए क्योंकि उनके रतलाम के चक्कर बच गए। झाबुआ के सुखदेव विहार क्षेत्र में बीएसएनएल कार्यालय के भवन में ही आयकर कार्यालय खोल दिया गया। जिला आयकर अधिकारी के रूप में तिर्की ने कार्यभार ग्रहण किया। तीन साल के संचालन के बाद झाबुआ में आयकर कार्यालय बंद करते हुए अब उसे धार में कर दिया गया है।

यह लाभ हुआ

- झाबुआ में आयकर कार्यालय खुलते ही आयकरदाताओ के सभी कार्य यही होने लगे

-8 हजार से बढ़कर 12 हार आयकरदाता हो गए

-आयकर से जुड़े कार्यो को लेकर बेवजह के तनाव से मुक्ति मिली

-पुराने अटक हुए मामले भी निपटने लगे

-आयकर विभाग सभी की पहुंच में हो गया

धार में जाने से यह दिक्कतें

-90 किमी दूर जाना पड़ रहा

-आयकरदाताओ की निर्भरता बढ़ गई

-सीधा जुड़ाव कम हो गया

-झाबुआ को मिली सौगात चली गई

कार्यभार संभाला

धार कार्यालय आयकर अधिकारी का जिम्मा अब झाबुआ में पदस्थ रहे पीसी तिर्की को मिल गया है। उन्होंने अरुणकुमार शर्मा का स्थान लिया है।इस बीच अब झाबुआ में वापस आयकर कार्यालय खोलने की मांग उठने लगी है।हालांकि बंद होने को लेकर भी साफ कारण सामने नही आ पाया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local