झाबुआ/आलीराजपुर/खरगोन। आदिवासी अंचल में पूरे उत्साह और उल्लास के साथ गुरुवार से भगोरिया पर्व की शुरुआत हुई। पहले दिन झाबुआ जिले के पारा और समोई में तथा आलीराजपुर जिले के जोबट, सोंडवा और फुलमाल में भगोरिया मेला लगा।

आदिवासी समाजजन ने बड़ी संख्या में इसमें भाग लिया। कुर्राटी की गूंज और ढोल-मांदल की थाप पर समाजजन जमकर थिरके । आदिवासी संस्कृति और पारंपारिक वेशभूषा में सजधज कर आए महिला-पुरुषों ने झूलों सहित खान-पान का लुत्फ उठाया। शुक्रवार को आलीराजपुर जिले के कट्ठीवाड़ा, वालपुर, उदयगढ़ और कदवाल में भगोरिया मेला लगेगा। वहीं झाबुआ जिले में भगोर, बेकल्दा, मांडली तथा कालीदेवी में भगोरिया मेला भराएगा।

पारंपरिक परिधान में पहुंचे युवक-युवती

भगवानपुरा। वनांचल के ग्राम काबरी में गुरुवार को भोंगर्या हाट लगा। बड़ी संख्या में समाजजन हाट में पहुंचे। पारंपरिक परिधान में सजे युवक-युवतियों ने झूलों का आनंद लिया। वहीं समाज की महिलाओं ने भी आवश्यक वस्तुओं की खरीदी की। व्यापारी रमेश मालवीया, नितिन वर्मा, राहुल वर्मा आदि ने बताया कि पहला भोंगर्या हाट होने से व्यापार फीका रहा।

हालांकि आदिवासी समाजजनों का उत्साह चरम पर था। हाट में बच्चों ने झूलों व कुल्फी का लुत्फ उठाया। टीआई जीएस सेमलिया पुलिस बल के साथ मौजूद थे। ढोल-मांदल के साथ पहुंचे समाजजनों सहित ग्राम के पटेल कुंवर सिंह ने एक-दूसरे को गुलाल लगाकर बधाई दी।

भोंगर्या में ढोल-मांदल पर थिरके आदिवासी

खरगोन। भोंगर्या में ढोल-मांदल पर आदिवासी जमकर थिरके। भोंगर्या हाट में खासी चहल-पहल रही। सजी-धजी युवतियों ने फोटो भी खिंचवाए। कुछ ने सेल्फी भी ली।

साथ ही सौंदर्य प्रसाधन सहित अन्य वस्तुओं की खरीदी की। गुड़ की जलेबी व मीठी सेव भी खूब बिकी। बच्चों से लेकर युवाओं ने कुल्फी, शरबत व गन्ने के रस का लुत्फ उठाया। बच्चों ने खिलौने खरीदे। आइस्क्रीम, कुल्फी, पान आदि की बिक्री अच्छी रही।

बमनाला। यहां भी गुरुवार को भोंगर्या हाट लगाया गया। युवाओं ने गुड़ की जलेबी, हार कंगन सहित आवश्यक सामग्री खरीदी। छोटे बच्चों ने झूलों का आनंद लिया। हालांकि इस बार व्यापार-व्यवसाय कम हुआ। सरपंच, सचिव व उपसरपंच ने ग्रामीणों के लिए पेयजल व्यवस्था की। उधर पुलिस ने अवैध रूप से चलने वाले दोपहिया वाहनों के चालान काटे। चौकी प्रभारी मीना चौहान ने कहा कि हाट बाजार में असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखी गई।

बन्हेर। क्षेत्र के सरवरदेवला से भोंगर्या हाट की शुरू हुई। इसमें करीब 30 गांवों के समाजजन उमड़ पड़े। अलग-अलग गांवों से करीब दस मांदल लेकर आदिवासी समाजजन समूह के रूप में पहुंचे। कुर्राट भरकर पर्व का आनंद लिया। एक-दूसरे को गुलाल लगाकर खुशी जताई।

चित्तौड़गढ़-भुसावल राजमार्ग पर दोनों किनारों पर दुकानें लगने से वाहन चालकों की फजीहत हुई। ज्ञात रहे कि चार वर्ष पूर्व हाट में खरीदी करते समय एक महिला ट्रक की चपेट में आ गई थी। इससे उसकी मौत हो गई थी। इस घटना से सबक लेते हुए ग्राम पंचायत व ग्राम पटेल सहित ग्रामीणों की सहमति से भोंगर्या हाट का स्थान परिवर्तित किया गया। बिस्टान थाना प्रभारी ज्ञानू जायसवाल बल के साथ मुस्तैद रही।

शिवना। क्षेत्र के ग्राम चैनपुर में गुरुवार को भोंगर्या हाट लगा। आदिवासी समाजजनों ने एक-दूसरे को गुलाल लगाकर पर्व की बधाइयां दी। शुक्रवार को ग्राम शिवना में भोंगर्या हाट लगेगा। इस दौरान ग्राम पंचायत द्वारा पर्याप्त व्यवस्थाएं की जाएंगी।

पारंपरिक वेशभूषा के स्थान पर आधुनिकता हावी

सेंधवा। लोक संस्कृति के उत्सव भोंगर्या का गुरुवार को जोरदार आगाज हुआ। पहले दिन जिले के बलवाड़ी, गवाड़ी, पाटी, राजपुर, दवाना, राखी बुजुर्ग, बलवाडी, जोगवाड़ा में भौंगर्या हाट की धूम रही।

भोंगर्या हाट में सुबह से शाम तक ढोल-मांदल की थाप और थाली की खनक पर आदिवासी समाजजनों की कु र्राट गूंजी और कदम थिरके । अंचल के बलवाड़ी और गवाड़ी में लगे भोंगर्या हाट में मांदल और बांसुरी की स्वरलहरियों पर कु र्राट लगाकर झूमते समाजजन की मदमस्त टोलियों ने रंग जमाया।

बलवाड़ी में हजारों की संख्या में आदिवासी समाजजन उमड़े। दोपहर बाद ही शुरु हुई पारंपरिक मांदल दलों की मस्ती में समाजजन जमकर झूमे। समाजजनों ने झूले-चकरी अदि का आनंद लिया। वहीं कोई साज श्रंगार, नाश्ता, होली की पूजन सामग्री, फोटो स्टूडियों, खिलौने की खरीदारी करते दिखा।

भोंगर्या हाट में आसपास के क्षेत्र से पहुंचे सदस्यों ने पारंपरिक वेशभूषा के स्थान पर आधुनिकता हावी रही। युवा जहां पेंट-शर्ट में दिखे तो महिलाएं आधुनिक साड़ियों में नजर आई। वरला थाना दिनेश कु शवाह सहित पुलिस बल ने देर शाम तक भोंगर्या हाट में व्यवस्थाएं देखी।

नाम गुदवाया, मंडवाए हाथ

बलवाड़ी सहित गवाड़ी में मेले में युवक-युवतियों ने खास ध्यान श्रृंगार पर दिया। युवतियों ने कलाई पर नाम गुदवाने में रुचि ली। वहीं कु छ मेहंदी के रेडिमेड छापों से हाथ मंडवा रही थीं। बलवाड़ी सहित क्षेत्र के गवाड़ी, मालवन, जोगवाड़ा में भोंगर्या हाट में ग्रामीणों का उत्साह परवान पर रहा। ढोल-मांदल की थाप पर थिरके कदम। यहां भी ग्रामीणों ने झूलों का आनंद लेते हुए खरीदारी की।

आज यहां रहेगी धूम

शुक्रवार को जिले के मेणीमाता, बोकराटा, ठीकरी, मोयदा, तलवाडा, वरला, झोपाली में भोंगर्या की धूम रहेगी। उल्लेखनीय है कि जिले में भोंगर्या हाट का दौर होलिका दहन तक जारी रहेगा। इस दौरान जिले में लगभग 45 स्थानों पर भगोरिया उत्सव का आयोजन होगा।

Posted By: