झाबुआ (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोनाकाल का लगातार दूसरा रावण दहन अत्यंत सादगी से आज शाम 6.30 बजे नगर पालिका कार्यालय परिसर में होगा। पिछले साल की तरह इस बार भी यह आयोजन पुलिस पहरे में हो रहा है। वजह यह है कि संक्रमण के चलते भीड़ भरे आयोजन करने की अनुमति नहीं है। वैसे कोरोनाकाल का सकारात्मक पहलू यह है कि सादा कार्यक्रम होने से अब रावण दहन का बजट कम हो गया है। जो बजट पहले पांच लाख तक पहुंच जाता था, अब 25 हजार तक में ही कार्य हो रहा है। फर्क सिर्फ आयोजन के दायरे का है। पहले जहां भव्य था वहीं अब सीमित रूप से कार्यक्रम हो रहा है।

संक्रमण के दौर ने आमजनजीवन व मान्यताओं को काफी हद तक प्रभावित कर डाला है। मानसिकता चाहे मजबूरी में बदलना पड़ी किंतु मानसिकता बदलने से नजारे ही हर स्तर पर बदल गए है। रावण दहन के मामले में भी यही हो रहा है।

यह रहेगा नजारा

-6.30 बजे शाम को नगर पालिका परिसर में रावण दहन होगा

-21 फीट का रावण का पुतला रहेगा

-20-25 लोग ही उपस्थित रहेंगे

-3 रास्तों पर लगा रहेगा पुलिस का पहरा

-2 साल से इसी तरह का आयोजन हो रहा

पहले यह रहता था नजारा

-7 बजे शाम बिलिडोज के मैदान में रावण दहन होता था

-51 फीट का रावण का पुतला रहता था

-25 हजार से अधिक भीड़ मौजूद रहती थी

-5 बजे शाम से ही आतिशबाजी होने लगती थी

-8.30 बजे तक यातायात जाम रहता था

आमतौर पर बजट की यह स्थिति रहती

-80-90 हजार रावण का 51 फीट पुतला बनाने में खर्च होता

-2-2.50 लाख का आतिशबाजी में धुआं होता

-50-75 हाजर टेंट, साउंड व लाइट व्यवस्था में हो जाते

-100-200 बल्लियों की बेरिकेडिंग होती

-25-50 हजार अन्य खर्च हो जाता

कोरोनाकाल का बजट

-15-20 हजार में रावण का पुतला बन रहा

-00 आतिशबाजी पर

-00 खर्च आम व खास की व्यवस्था पर

-00 बेरिकेड्स लगाने पड़ रहे

-5 हजार तक ही अन्य खर्च हो रहे

स्थानीय फंड का उपयोग

रावण दहन का सार्वजनिक आयोजन परंपरा के मुताबिक नगर निकाय के ही जिम्मे है। शासन इसके लिए कोई अलग से बजट नहीं देता। निकाय को अपने स्थानीय फंड से ही यह तमाम खर्च वहन करना होता है। निकाय को यह फंड जनता की कर वसूली से आता है। जाहिर-सी बात अब जनता की गाढ़ी कमाई का यह बचा हुआ पैसा अब अन्य विकास कार्यो में लगेगा।

प्रतीकात्मक ही है आयोजन

नगर निगम के सीएमओ एलएस डोडिया ने बताया कि कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए रावण दहन आयोजन किया जा रहा है। पिछले साल की तरह ही समिति उपस्थिति के बीच सादा आयोजन होगा। केवल प्रतीकात्मक कार्यक्रम ही हो रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local