-आलीराजपुर में प्रीमियम भी कम भरी गई योजना में-

फसल बीमा में आधी हो गई

क्लेम राशि, गिर रहा ग्राफ झाबुआ। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ किसानों को उम्मीद के मुताबिक फायदा नहीं मिल रहा। झाबुआ जिले में आंकड़ा तीन वर्षों में कुछ बढ़ा जरूर है, लेकिन ये उम्मीद के लिहाज से उपयुक्त नहीं दिखता। दूसरी ओर आलीराजपुर जिले में किसानों को मिलने वाला लाभ लगातार गिर रहा है। प्रीमियम भरवाने में बढ़ोतरी हुई और क्लेम राशि के भुगतान में कमी आ रही है। जिले में बीमा क्लेम देने के मामले में राशि आधी हो गई। अधिकारियों का कहना है, ये सब नुकसान पर निर्भर करता है। प्रीमियम के आंकड़े लगातार बढ़े हैं और किसानों के भी।

किसानों को मौसम या किसी भी दूसरे कारण से फसलों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए योजना शुरू की गई। शुरुआत में इसमें उड़द को शामिल नहीं किया गया था। लेकिन तत्कालीन आलीराजपुर कलेक्टर की मांग पर इसे शामिल किया गया। दरअसल उड़द की खेती इस जिले में बड़े स्तर पर होती है। जिस साल उड़द को शामिल किया गया, उस साल पौने 14 करोड़ रुपए के लगभग क्लेम का भुगतान किया गया। तब मौसम खराब होने के कारण फसलों को नुकसान भी ज्यादा हुआ था। लेकिन ये नहीं कहा जा सकता कि उसके बाद सबकुछ ठीक ही रहा। दोनों पड़ोसी जिलों में आंकड़े अलग-अलग तरह से असर दिखा रहे हैं। झाबुआ में संख्या और प्रीमियम बढ़ने के साथ क्लेम बढ़े हैं तो आलीराजपुर में कम हुए हैं।

प्रति किसान कम हो गया लाभ

आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो ये समग्र स्तर पर बढ़े हुए दिखाई देते हैं। लेकिन किसानों की संख्या और कुल क्लेम राशि की गणना में साफ होता है कि प्रति किसान लाभ लगातार कम हुआ है। जिस अनुपात में किसानों की संख्या, प्रीमियम की राशि बढ़ी है, उस अनुपात में क्लेम नहीं मिले। स्पष्ट तौर पर ये भी नहीं कहा जा सकता कि 2015 के बाद किसानों को मौसम या किसी दूसरी वजह से नुकसान काफी कम हुआ हो।

ऐसी है स्थिति

झाबुआ जिला

खरीफ

वर्ष सदस्य संख्या प्रीमियम राशि क्लेम पाने वाले किसान क्लेम राशि

2015 40071 188.63 लाख 10727 191.01 लाख

2016 100714 553.95 लाख 29219 436.77 लाख

2017 145891 746.52 लाख निरंक निरंक

रबी

2015-16 1283 1.57 लाख शून्य

आलीराजपुर जिला

2015 19792 87.34 लाख 19846 1375.38 लाख

2016 45177 192.57 लाख 9180 42.59 लाख

2017 50100 204.01 लाख निरंक निरंक

रबी

2015-16 1122 0.79 लाख 21 0.11 लाख

लगातार सुधरी है स्थिति

जिला सहकारी बैंक झाबुआ के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीएन यादव का कहना है, फसल बीमा योजना में दोनों ही जिलों में स्थिति सुधरी है। जहां तक क्लेम राशि मिलने का सवाल है, ये नुकसान पर निर्भर है। प्रीमियम भरवाने और ज्यादा से ज्यादा किसानों को शामिल करने के प्रयास लगातार चलते हैं।