कई गुना ज्यादा के बिजली बिल

हाथ आते ही लगा जोर का झटका

-घरेलू उपभोक्ता सकते में, रीडिंग में गड़बड़ी का आरोप

पिटोल। नईदुनिया न्यूज

बिजली उपभोक्ताओं को यहां बिल मिलते ही ऊहापोह की स्थिति निर्मित हो गई है। पूरे गांव में कई लोगों को मिले अधिक राशि वाले बिलों के कारण हो हल्ला मच गया है। उपभोक्ता एक-दूसरे से पूछ रहे है, 'भई आपका बिल कितना आया।' किसी ने अपना बिल 25 हजार बताया तो कोई 16 हजार, कोई 12 हजार 540 तो कोई 8 हजार से अधिक बता रहा है। ग्रामीण इस बात को लेकर सकते में है कि गत 6 माह से यही बिल दो हजार पच्चीस सौ से अधिक नहीं आए। अचानक ऐसा क्या हो गया कि इस माह उन्हें इतने अधिक बिल थमा दिए गए।

उपभोक्ता किसन नागर का कहना है कि उन्हें 12 हजार से अधिक का बिल मिला है जबकि लगातार समय से बिल अदा कर रहे है। यदि रीडिंग में किसी प्रकार की गड़बड़ी है तो उसमें उनकी क्या जिम्मेदारी है। अब उन पर एक दम से इतनी अधिक राशि जमा करने का अधिभार आ गया है। अब्दुल का कहना है नऐ मीटरों के लगने के बाद से ही बिलों की राशि में भी इजाफा हो गया है। गुड्डा पिता रमणलाल केा 25 हजार का बिल मिल गया है यानी प्रतिमाह से दस गुना अधिक अब इसे वे कैसे भरें। उनके सामने तो बजट का सवाल खड़ा हो गया है। ऐसे कई उपभोक्ता हैं जिन्हें बिजली का बिल हाथ में आते ही झटके लग रहे है।

जब सरकार आएगी द्वार, तब उठाएंगे मामला

लगातार बिजली बिलों के रूप में जनता पर बढ़ते अधिभार को लेकर ग्रामीण आक्रोशित हैं। उनका कहना है कि बिलों में नाना प्रकार की राशि आरोपित कर उनसे नाहक पैसा लिया जा रहा है। ईमानदारी व समय से पैसा भरने वालों पर लगातार इस तरह की गाज गिर रही है। आक्रोशित ग्रामीणों का कहना है कि बिजली समस्या के साथ ही बिलों के मुद्दों को हमारे यहां मुख्यमंत्री द्वारा भेजी जाने वाली 'आपकी सरकार आपके द्वार' के सामने रखेंगे।

विभाग के कनिष्ठ यंत्री भरत सरदाना का कहना है कि फोटो मीटर रीडिंग सिस्टम चालू हो गया है। इससे मीटर बिलों में वास्तविक रीडिंग आई है तथा उसके हिसाब से खपत की गई यूनिट के आधार पर बिल बने है। पूर्व में रीडरों द्वारा ली जाने रीडिंग में चूक हो सकती है। या जिन लोगों के यहां नहीं पहुंच सके, उन्हें एवरेज बिल दिए गए थे। यह रीडिंग बिल है। उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए अधिक राशि के बिलों को किस्तों में भरने की सुविधा दी जा सकती है, लेकिन उन्हें बिल तो भरना ही पड़ेंगे।

बॉक्स....

एवरेज बिलिंग की शिकायत पर होगी सख्त कार्रवाई

झाबुआ। विद्युत कंपनी ने निर्देश दिए हैं कि उपभोक्ताओं की बिलिंग संबंधी शिकायतों का निराकरण मैदानी स्तर पर तत्काल सुनिश्चित किया जाए। मीटर खराब होने पर ही औसत बिलिंग के आधार पर बिल जारी किए जाए। मीटर सही होने पर एवरेज बिलिंग की शिकायत पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि कंपनी को उपभोक्ताओं से सीधे तथा सीएम हेल्पलाइन के माध्यम से एवरेज बिलिंग की शिकायतें प्राप्त होती हैं। मीटर रहित कनेक्शनों में टैरिफ आदेश के प्रावधान के अनुसार बिलिंग की जाए। एवरेज बिलिंग की समस्या के निराकरण तथा उपभोक्ता द्वारा उपभोग की गई विद्युत की खपत के सही आकलन के लिए खराब या जले मीटरों को एक कार्य-योजना बनाकर तत्काल बदलना सुनिश्चित किया जाए। जिन कनेक्शनों में मीटर नहीं है, उन पर तत्काल मीटर लगाए जाने का काम तेजी से करें। मैदानी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे आकस्मिक निरीक्षण कर उपभोक्ता परिसरों की जांच करें। यदि मीटर चालू होने के बाद भी औसत खपत के आधार पर बिल भेजे जा रहे हैं तो ऐसे अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।

18 जेएचए 12 - पिटोल में अधिक राशि के बिलों को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है।