गुजरात के बदमाश पहले करते थे

रैकी, फिर देते थे वारदात को अंजाम

- पेटलावद पुलिस ने अतंर्राज्यीय वाहन चोर गिरोह का किया पर्दाफाश

- पांच आरोपी पुलिस गिरफ्त में

पेटलावद। नईदुनिया न्यूज

पेटलावद पुलिस ने अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह को पकड़े में बड़ी सफलता हासिल की है। इसमें प्रदेश के झाबुआ जिले से सटे गुजरात प्रदेश के गौधरा शहर के पांच बदमाशों को पुलिस ने धरदबोचा है। बताया जा रहा है यह बदमाश पहले एमपी में आकर रैकी करते थे, उसके बाद चोरी करकर गुजरात ले जाते थे। इसके बाद रातोरात चोरी के वाहनों की कटनी भी करते थे।

पुलिस थाने में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसडीओपी बबिता बामनिया और टीआई दिनेश शर्मा ने इसका खुलासा करते हुए बताया कि आठ सितंबर को पेटलावद से सुरेश राठौड़ की पिकअप (एमपी 09 जीएफ 6424) चोरी हो गई थी। मामले की रिपोर्ट पुलिस थाने में की गई। इसके बाद एसपी विनीत जैन के निर्देशन में एडीशनल एसपी विजय डावर के मार्गदशन में टीम गठित की गई थी। इसके बाद पुलिस ने अपने मुखबीर भी लगा दिए थे और टीम भी अलग-अलग जगह दबीश में जुट गई। सात दिनों की कड़ी मेहनत के बाद आखिरकार पुलिस बदमाशों को पकडे में कामयाब हो गई।

पिकअप के गोधरा जाने की मिली थी सूचना

मुखबीरों से पुलिस को इस बात की जानकारी मिली थी कि गुजरात के गोधरा में ट्रक डंपर जैसे वाहनों को चुराने के बाद उनकी कटिंग कर बेचने का अवैध धंधा खूब फल-फूल रहा है। टोल बैरियरों पर पिकअप ले जाने के फुटेज मिलने के बाद पुलिस को उसे इसी मार्ग पर आगे गोधरा में ले जाने का संदेह हुआ। टीम गोधरा पहुंची और वहां की पुलिस लोकल क्राइम ब्रांच से संपर्क साधा।

ऐसे आए पकड़ में

टीम तीन दिन तक गोधरा में रुकी। यहां रेल्वे स्टेशन के पास सिंगल फड़िया के पास वाहन चोर अपराधियों तथा चोरी वाहनों की पतारसी रती रही। इसके बाद संदेही इकबाल हुसैन पिता सुलेमान सुरती के अपने घर मक्की मस्जिद के पीछे खनखरिया प्लॉट पर वही पिकअप मिली जो पूरी तरह बदल दी गई थी। किसी को पता नहीं चले, इसके लिए कलर पेंट से जो नाम लिखा हुआ था वह मिटाकर उसकी दोनों फाटक और आगे का बोनट निकाल दिया गया। इसके बाद इकबाल से सख्ती से पूछताछ की तो उसने अब्दुल मजीद पिता तय्यब असला, खालिद पिता याकूब चरखा, महबूब उर्फ काला पिता सिद्दीक चांदलिया द्वारा इस पिकअप को चोरी करना बताया। इनके साथ में उसने एक ओर युवक मेहफूज हसन पिता फारुख हसन द्वारा ऐसे वाहनों की खरीदारी करना भी बता दिया। इन सभी को पुलिस ने गुजरात पुलिस की मदद से धरदबोचा।

कबूली अन्य वाहन चोरियां

इसके बाद पुलिस ने इहें न्यायालय में पेश किया और इनका पीआर मांगा। न्यायालय ने पुलिस को पीआर दिया। जिसके बाद पुलिस ने इनका रिमांड लेकर सख्ती से पूछताछ की तो इन सभी बदमाशों ने मेघनगर, खवासा, रायपुरिया सहित अन्य जगहों पर वाहन चोरी करना भी कबूल दिया। इस पूरी कार्रवाई में एसआई विजय वास्कले, दिव्य ज्योति, प्रधान आरक्षक मुनेंद्रसिंह, शांतिलाल पगारे, हितेंद्र, देवेंद्र शर्मा, आरक्षक राकेश, सुरेश, जीवन, रामप्रसाद, तरवेज, लालसिंह और अनिता की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

जिले के बदमाशों से भी जुड़े हैं तार

यहीं नहीं पुलिस को वाहन चोरी के संबंध में कई ऐसी महत्वपूर्ण जानकारिया भी मिली हैं, जिसमें जिले के बदमाशों से भी इनके तार जुड़े होने की सबसे बड़ी बात सामने आई है। यह बदमाश फिलहाल पुलिस गिरफ्त में नहीं आए हैं, लेकिन पुलिस सूत्रो की मानें तो यह बदमाश झाबुआ जिले के मेघनगर सहित आसपास के क्षेत्रों के बताए जा रहे हैं, जिन्हें पुलिस जल्द ही पकड़ लेगी।

17 पीईटी 1 पत्रकार वार्ता में एसडीओपी बामनिया और टीआई शर्मा खुलासा करते हुए।

17 पीईटी 2 पुलिस की गिरफ्त में पांच आरोपित।