सेकंड लीड....

पांच का नाका में हादसे थमने का

नाम नहीं ले रहे, युवक की मौत

-चार दिन से खराब पड़े ट्रेलर में जा घुसा बाइक सवार

-जिला प्रशासन सतर्क होता तो टल सकती थी दुर्घटना

पिटोल। नईदुनिया न्यूज

एक के बाद एक दुर्घटनाओं में हो रही मौतों के बढ़ते आंकड़े के बाद भी जिला प्रशासन पिटोल के पास इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर पांच का नाका में होने वाले हादसों को गंभीरता से नहीं ले रहा है। यहां कई कारणों से लगातार दुर्घटनाएं होती जा रही है। शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे इसी पांच का नाका की उखला घाटी में बाइक सवार सुनील पिता सरमा डामोर अंध गति से आ रहे वाहन के अचानक सामने आ जाने से असंतुलित होकर चार दिन से खराब पड़े ट्रेलर में जा घुसा। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि मृतक सुनील डामोर (25) निवासी करड़ावद अपने साले सुकेत को करड़ावद से कांकरादरा (कुंदनपुर) छोड़ने जा रहा था। इस बीच रास्ते में हादसा हो गया। सुकेत को भी चोट आई है। ट्रॉला जीजे 5 वायवाय-8953 गत चार दिनों से पांच का नाका में निर्माणाधीन फोरलेन के बीच टू-लेन पर खराब पड़ा हुआ है, किंतु इन चार दिनों में इसको किसी भी जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी ने साइड में करवाने की जहमत नहीं उठाई। नतीजा यह हुआ कि हादसों की डगर बन चुके इस रोड ने एक और युवक की जिंदगी ले ली। हालांकि इस हादसे से पहले भी अब तक कई हादसे हो चुके हैं।

24 घंटे में हुए पांच हादसे

पांच का नाका में गत सप्ताह टैंकर के पलटने से निकले कास्टिक ऑयल के कारण रास्ते पर फिसलन हो गई थी। दुर्घटनाग्रस्त टैंकर के कारण बनाए पत्थरों के अस्थाई डिवाइडर व रोड पर पड़े तेल की फिसलन से पांच वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे। घटना के तीन दिन बाद से ही इसी स्थान पर यह ट्रॉला भी खराब पड़ा था। घटना के बाद सूचना पर पहुंचे पुलिस चौकी प्रभारी हरनाथसिंह चौहान, प्रधान आरक्षक ओमप्रकाश जोशी व पिटोल चौकी के आरक्षकों ने मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय पहुंचाया। लगातार दुर्घटनाओं को लेकर ग्रामीणों में रोड निर्माण कंपनी व जिला प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर भारी आक्रोश है,जो कभी भी सड़कों पर आ सकता है।

22 जेएचए 24- पिटोल के पांच का नाका पर चार दिनों से खराब पड़े ट्रेलर से बाइक के टकरा जाने से हादसा हुआ।

Posted By: Nai Dunia News Network