-23 सितंबर को ससुराल पक्ष ने किया था अगवा

-परिजनों ने लगाए हत्या के आरोप

झाबुआ। मंदसौर से मजदूरी कर अपने परिजन के साथ लौट रही महिला को उसके ससुराल पक्ष के लोग 23 सितंबर को मेघनगर रेलवे स्टेशन से उठा ले गए थे। बुधवार को महिला मृत अवस्था में पुलिस को ससुराल में मिली। महिला के भाई का कहना है कि अपहरण की रिपोर्ट झाबुआ थाने पर दर्ज करवाई गई थी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। ससुराल पक्ष ने उसके साथ मारपीट कर हत्या कर दी। फिलहाल मेघनगर पुलिस तफ्तीश में जुटी है।

झाबुआ थाने के ग्राम बलवंत की नमराबाई (30) का विवाह 8 साल पहले ग्राम मोरडुंगरा के नानसिंह वसुनिया के साथ हुआ था। पहले वर्ष ही पति-पत्नी के विवाद के बाद नमराबाई अपने पिता के घर ग्राम बलवंत रह रही थी। 23 सितंबर को मंदसौर से अपने परिजनों के साथ वह आ रही थी। इस दौरान मेघनगर से नमराबाई को ससुराल पक्ष के लोगों ने अगवा कर लिया। इसकी रिपोर्ट झाबुआ थाने में दर्ज करवाई गई। मृतका के भाई आवला का कहना है कि उसकी बहन को जबर्दस्ती मेघनगर से उठा लिया गया था जबकि वह ससुराल नहीं जाना चाहती थी। पति-पत्नी के विवाद का मामला न्यायालय में विचाराधीन है। नमराबाई के साथ उसके पति और ससुराल पक्ष के लोगों ने लगातार मारपीट की, जिससे उसकी मौत हो गई। झाबुआ पुलिस समय पर कार्रवाई करती तो यह घटना नहीं होती। मेघनगर पुलिस ने भी फिलहाल मर्ग कायम किया है जबकि हत्या के आरोपी खुलेआम घुम रहे है। शव का पोस्टमार्टम जिला चिकित्सालय में करवाया गया। इस दौरान परिजनों की भीड एकत्रित हो गई। इस संबंध में थांदला एसडीओपी नाहरसिंह रावत का कहना है कि महिला का शव फांसी पर झूलते हुए पाया गया। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले की आगे कार्रवाई की जाएगी।