रायपुरिया : महिलाएं भी घर का काम छोड़ कतार में, फिर भी निराशा

रामनगर/रायपुरिया। नईदुनिया न्यूज

आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था रायपुरिया पर यूरिया खाद आया तो किसानों की लाइन लग गई। सुबह 6 बजे से ही किसान रायपुरिया के छपरापाड़ा स्थित नवीन आदिम जाति सेवा भवन पर किसानों की भीड़ जमा हो गई। इसमें महिलाएं लाइन में लगी हुई थी। प्रति किसान को पावती के हिसाब से 2 बोरी यूरिया वितरण किया जा रहा है। जैसे ही किसानों को पता चला कि सरकारी संस्था पर आज यूरिया का वितरण हो रहा है, वैसे ही वे दौड़ पड़े। एक तरफ ठंड, दूसरी तरफ कोहरा, फिर भी किसानों की कतार कम होने का नाम नहीं ले रही है।

आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था के मैनेजर लालसिंह डोडिया ने बताया कि हमने 100 टन यूरिया का वितरण करना है। किसानों की मांग इसलिए बढ़ गई थी। अबकी बार बारिश अच्छी होने वह माही नहर का पानी चालू होने से गेहूं-चने के लिए यूरिया की मांग अधिक की है। हमने अभी तक रबी सीजन में 611 टन यूरिया का वितरण किया है। उसके बाद भी जरूरत के हिसाब से यूरिया खाद मंगवाया जाएगा। वहीं किसानों का कहना है कि दो बोरी खाद से क्या होगा। शासन हमें पर्याप्त मात्रा में खाद दिलाए, क्योंकि दो बोरी खाद खेत में कहां-कहां डालें। हमें अधिक मात्रा में खाद चाहिए।

03 जेएचए 17- रायपुरिया में खाद के लिए कतार में अपनी बारी आने का इंतजार करते हुए किसान।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket