कॉलेज प्रबंधन की लापरवाही से मूल्यांकन की राशि अटकी

झाबुआ। शहीद चंद्रशेखर आजाद शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय प्रबंधन ने पिछले सत्र की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य का भुगतान नहीं किया है। अतिथि विद्वान शंकरलाल खरवाड़िया ने बताया कि देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर द्वारा पांच लाख की राशि दिसंबर में ही महाविद्यालय को भेजी जा चुकी है। मेरा दो सत्र के मूल्याकंन कार्य का भुगतान अटका हुआ है। इसमें और राशि की आवश्यकता है, लेकिन 14 प्रतिशत टैक्स काटने के बाद राशि में सभी का भुगतान हो जाता। शेष की मांग प्रबंधन की लापरवाही के कारण आज तक नहीं मंगवाई गई। इस कारण समय पर भुगतान नहीं हो सका। 4 फरवरी को जारी बजट में केवल सितंबर, अक्टूबर, नवंबर माह के मानदेय भुगतान का जिक्र है, जबकि अतिथि विद्वानों का जून-जुलाई माह का मानदेय पूर्व में जारी बजट में बाबुओं द्वारा समय पर बिल जनरेट नहीं करने के कारण विभाग द्वारा राशि वापस ले ली गई। इस कारण आज तक भुगतान अटका है। समय पर मानदेय नहीं मिलने से वे आर्थिक व मानसिक रूप से टूट चुके हैं। सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाना मुश्किल हो गया है। बच्चों की स्कूल फीस समय पर नहीं भर पा रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network