झाबुआ। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ आज झाबुआ पहुंचे। झाबुआ पहुंचने के बाद वे यहां के पोलिटेक्निक कॅालेज में पहुंचे। जहां उन्होंने झाबुआ उपचुनाव को लेकर कांग्रेस नेताओं से चर्चा की। उनके साथ प्रदेश कैबिनेट के 4 मंत्री भी शामिल रहे। बाद में मुख्यमंत्री कमलनाथ मिशन आवास योजना की शुरूआत करने पहुंचे। जहां उन्होंने उपस्थितों को संबोधित करते हुए कहा कि, "15 वर्ष भाजपा की सरकार रही लेकिन 15 साल बाद ऐसा प्रदेश सौंपा जहां बेरोजगारी रही, ऐसा प्रदेश जो महिला अत्याचार में नंबर वन रहा।" हमें पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने ऐसा प्रदेश सौंपा, जिसका खजाना खाली था। प्रदेश में 70 प्रतिशत ग्रामीण हैं। मगर हालात ये रहे कि किसान का जन्म और मृत्यु कर्जे में होती रही, हमने तय किया था कि हम यह कर्जा माफ करेंगे और हमन कर्जा माफ किया। मक्का के लिए किसानों को बोनस दिया।

वो यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि, "आने वाले समय में किसानों को गेहूं के लिए 160 रुपये बोनस दिया जाएगा। हमारे युवाओं के सपने हैं। उनकी अपनी सोच है। उनमें एक तड़प है। वे इंटरनेट से परिचित हैं। यदि इन युवाओं का भविष्य अंधेरे मे रहा तो कैसा प्रदेश बनेगा। इनके लिए रोजगार सृजन राजनीति से नहीं होगा। रोजगार तब विकसित होंगे जब इस प्रदेश में इंडस्ट्री आएगी। यहां निवेश बढ़ेगा।"

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस दौरान भूमिहीनों को आवासीय भूमि के 200 पट्टे वितरित किए।

सीएम कमलनाथ ने झाबुआ उपचुनाव में कांग्रेस की रणनीति पर बात की और नेताओं को आवश्यक निर्देश दिए।झाबुआ में उपचुनाव के लिए कमलनाथ ने कांग्रेस की क्षेत्रीय कमेटी बनवाई है। जिसके 43 सदस्यों की बैठक सीएम कमलनाथ ने ली। बैठक करीब 25 मिनिट तक चली।

इसके बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ मिशन आवास योजना की शुरूआत करने पहुंचे। यहां पहुंचने पर सीएम कमलनाथ का साफा, परंपरागत जैकेट पहनाकर सम्मान किया गया। अन्य अतिथियों को भी जैकेट व साफा पहनाकर सम्मानित किया गया। प्रदेश में मंत्री जयवर्धन सिंह ने वहां मौजूद लोगों को संबोधित किया।