झकनावदा(नईदुनिया न्यूज)। श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा महोत्सव के अंतिम दिन महामंडलेश्वर उत्तम स्वामी महाराज यज्ञ पंडाल में पूर्णाहुति के अवसर पर पहुंचे। उन्होंने यजमानों को प्रतिष्ठा महोत्सव की शुभकामनाएं दीं। इसके बाद पूज्य गुरुदेव कथा पंडाल में पहुंचे। यहां बड़ी संख्या मे उपस्थित पुरुष एवं माताओं-बहनों ने पूज्यश्री का जयकारा लगाते हुए अगवानी की।

समिति और आमंत्रित सदस्यों ने पूज्य गुरुदेव का श्रीमद् भागवत गीता और पुष्प माला भेंट कर स्वागत किया। इसकेबाद समिति द्वारा आमंत्रित राष्ट्रीय भक्त मंडल अध्यक्ष एवं पूर्व पर्यटन मंत्री तपन भौमिक, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के भाई नरेंद्र चौहान, पूर्व इंदौर विधायक सुदर्शन गुप्ता,अश्विन शुक्ला, राजू बंसल इंदौर का साफा बांधकर, श्रीफल एवं दुपट्टा भेंट कर सम्मान किया गया। तपन भौमिक ने कहा कि गुरुदेव नर्मदा की लंबी यात्रा पूर्ण कर हमें धर्म से जोड़ने झकनावदा पधारे है। इनके द्वारा बहाई जा रही भागवत ज्ञानगंगा का आप सभी भक्त श्रवण कर अपने जीवन में उतारें। गुरुदेव हर पल हर भक्त के दिलों में है। उन्होंने कहा कि उत्तम स्वामी की नर्मदा यात्रा में 11 से 84 साल के लोग यात्रा में शामिल थे। मंच संचालन पूनमचंद कोठारी ने किया।

हनुमान चालीसा पाठ से शुरू हुई कथा

श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ श्री हनुमान चालीसा पाठ से हुआ। इसकेबाद पूज्य गुरुदेव ने कथा में कहा कि विश्राम संसार से प्राप्त करो। मनुष्य बनकर चलोगे तो पतन संभव नहीं है। मनुष्य देवताओं जैसा कार्य करें । मनुष्य जीवन में देवताओं, गुरु एवं संतों जैसा कार्य करे। इस बीच पूज्य गुरुदेव ने 'थोड़ा-थोड़ा हरि का भजन करले' भजन सुनाया तो श्रोता झूम उठे। इसकेबाद भागवत कथा का आरती के बाद समापन हुआ।

धूमधाम से की गई प्राण-प्रतिष्ठा

नगर में शिव परिवार नवग्रह शनि मंदिर, भेरू जी महाराज, हनुमान जी महाराज की प्रतिमाओं का विधि-विधानपूर्वक ब्रह्म मुहूर्त में प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन हुआ।

यह रहे उपस्थित

इस अवसर पर श्रीमद् भागवत कथा के मुख्य लाभार्थी लाखनसिंह सोलंकी झाबुआ, वीरेंद्र सिंह सोलंकी झाबुआ (झकनावदा वाले) परिवार, पूर्व विधायक निर्मला भूरिया, राजपूत करणी सेना प्रदेश अध्यक्ष शिवप्रताप सिंह चौहान, प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह सलवा, भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मण सिंह नायक, अजमेर सिंह भूरिया, मंडल अध्यक्ष शांतिलाल मुनिया, डा.सरफराज खान समेत गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र से बड़ी संख्या में भक्त उपस्थित थे।

फले चुनरी का आयोजन

श्रीमद् भागवत कथा के अंतिम दिन ठिकाना झकनावदा दरबार ठाकुर जगपालसिंह राठौर परिवार द्वारा फले चुनरी का आयोजन का लाभ लिया गया। इसमे हजारों गुरु भक्तों ने महाप्रसादी का लाभ लिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close