यशवंतसिंह पंवार, झाबुआ।

पंचायत निर्वाचन-2022 के तहत आरक्षण की प्रक्रिया होते ही मैदानी बिसात बिछने लगी है । चाहे यह चुनाव गैर दलीय आधार पर होंगे, लेकिन जिला पंचायत व जिले की छह जनपद पंचायत पर कब्जा करने के लिए प्रमुख राजनीतिक दलों की निगाहें जमी हुई है। वजह साफ है कि अगले साल विधानसभा चुनाव होना है और जो दल इन सात पंचायती संस्थाओं में अपना वर्चस्व स्थापित कर लेगा, जिले की तीनों विधानसभा उसी की होगी । दोनों प्रमुख दलों ने अपने संगठन की कमान गैर आदिवासी वर्ग को सौंप रखी है मगर पंचायती राज की सबसे मुख्य 128 सीटों में से सिर्फ दो पर ही सामान्य वर्ग का पुरुष अपनी किस्मत आजमा सकता है । अन्य सात सीटों पर उसे महिलाओं को आगे करना होगा, जिनमें एक सीट जिला पंचायत सदस्य की भी शामिल है ।

तीन स्तर वाली पंचायती राज व्यवस्था लागू होने की बीते 28 सालों में यह सार्थकता है कि गांव-गांव में नेतृत्व उभर कर सामने आया है । ग्राम स्वराज लाने की परिकल्पना से अवतरित हुई ग्राम पंचायतों पर तो गैर दल परंपरा व्यवहार में भी काफी हद तक नजर आती है, लेकिन जनपद व जिला पंचायत पर सत्ताबल-अर्थबल से ही कुर्सी का फैसला होता आया है । इस बार भी यही संभावना है, क्योंकि जिला पंचायत के 14 और छह जनपद पंचायत के 114 वार्डों को फतह करने के सीधे दो असर रहेंगे। पहला जिला पंचायत व जनपद अध्यक्ष पद पर कब्जा और दूसरा भोपाल विधानसभा की सीढ़ियां अगले साल चढ़ने के अवसर में ब.ढोत्तरी ।

93 प्रतिशत आरक्षण

इस चुनाव की खासियत यह है कि 93 प्रतिशत आरक्षण जिला पंचायत व जनपद पंचायत वाडोर् में अजजा वर्ग के लिए ही है । अनारक्षित मुक्त मात्र दो जनपद सदस्य वार्ड पेटलावद जनपद में हैं । यानी सिर्फ उसके वार्ड तीन व 18 ही ऐसे हैं, जहां से सामान्य वर्ग का पुरुष चुनाव लड़ सकता है । अनारक्षित महिला के छह वार्ड जनपदों में वही एक वार्ड जिला पंचायत सदस्य के लिए आरक्षित हुआ है । इसका मतलब साफ है कि नेतागिरी कर रहे इन वार्डों के पुरुषों को महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारना होगा । 128 में से 58 सीटें अजजा वर्ग को मिली हैं, जिसका अर्थ यह है कि इसमें महिला-पुरुष लड़ सकेंगे, वहीं 61 सीटे सिर्फ अजजा महिला के लिए बुक हो गई है।

यह है स्थिति

- 01 जिला पंचायत

- 14 वार्ड

- 06 वार्ड अजजा मुक्त

- 07 वार्ड अजजा महिला

- 01 वार्ड अनारक्षित महिला

जनपदों के यह हाल

- 06 जनपद पंचायत

- 114 कुल जनपद सदस्य वार्ड

- 54 अजजा महिला के लिए आरक्षित

- 52 अजजा मुक्त

- 06 अनारक्षित महिला

- 02 अनारक्षित मुक्त

यह है खास

- 05 चुनाव अब तक हुए

- 28 वर्र्षों से जिला पंचायत कांग्रेस समर्थित

- 03 विधायक कांग्रेस के

- 01 सांसद भाजपा का

- 2023 में होना है विधानसभा चुनाव

- 2024 में होना है लोकसभा चुनाव

एक नजर में

- जिला पंचायत अध्यक्ष पद अजजा मुक्त

- झाबुआ, मेघनगर-पेटलावद जनपद अध्यक्ष पद अजजा मुक्त

- रामा, रानापुर-थांदला जनपद अध्यक्ष पद अजजा महिला

- सदस्य ही चुनेंगे अध्यक्ष

इतने वार्ड

संस्था,वार्ड

जिला पंचायत, 14

झाबुआ जनपद, 20

रामा जनपद, 17

रानापुर, 15

मेघनगर, 18

थांदला, 19

पेटलावद, 25

कुल, 128

समर्थित उम्मीदवारों की सूची

चुनाव के नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया आरंभ होते ही दोनों प्रमुख हर वार्ड में अपने समर्थित उम्मीदवारों की सूची जारी करेगी । बागियों को मनाया जाएगा । अधिक से अधिक वार्डों को फतह करने का लक्ष्य रहेगा, ताकि बहुमत से पंचायती संस्थाओं के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद पर कब्जा हो सके । दलीय प्रयास अपनी जगह रहेंगे लेकिन यह तय है कि ग्रामीण मतदाताओ का मूड इस निर्वाचन से एकदम साफ हो जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close