झाबुआ (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शिक्षा स्वास्थ्य न्यास नई दिल्ली तथा मध्यप्रदेश नर्सिंग काउंसिल, भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में 'कोरोना की तीसरी लहर और नर्सिंग छात्र-छात्राओं की भूमिका' विषय पर चार अगस्त को ई-संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। कोरोनाकाल में नर्सिंग स्टॉफ के साथ-साथ नर्सिंग छात्रों ने अत्यंत ही अल्प संसाधनों की उपलब्धता के बावजूद अपनी जान जोखिम में डालकर जो निस्वार्थ जनसेवा की है वह सर्वविदित है। देश विदेश के स्वास्थ्य विशेषज्ञ निकट भविष्य में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बता रहे हैं, ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि हम वांछित सावधानियां जैसे की मास्क का उपयोग, शारीरिक दूरी, सैनिटाइजर का प्रयोग आदि से तीसरी लहर के प्रकोप से बचने का प्रयास करें।

शासन -प्रशासन भी अपने स्तर पर कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने की तैयाारी कर रहा है। इन परिस्थितियों में यदि कोरोना की तीसरी लहर आ ही जाती है तो नर्सिंग के छात्र-छात्राओं की भूमिका अत्यंत ही महत्वपूर्ण हो जाती है। इसी संबंध में प्रदेश के नर्सिंग छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन करने के लिए शिक्षा स्वास्थ्य न्यास, नई दिल्ली तथा मध्यप्रदेश नर्सिंग काउंसिल, भोपाल के संयुक्त तत्वावधान मे एक ई-संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। इसमें प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित रहेंगे।

इस ई-संगोष्ठी के संयोजक ओम शर्मा ने बताया कि इस संगोष्ठी की अध्यक्षता शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के राष्ट्रीय सचिव अतुल कोठारी करंगे। साथ ही मप्र प्रवेश तथा शुल्क विनियामक समिति के अध्यक्ष डा. रविन्द्र कान्हरे, महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज के सेवानिवृत डीन डा. शरद थोरा, शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के चिकित्सा शिक्षा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय संयोजक डा. मनोहर भंडारी भी सम्मिलित रहेंगे। नर्सिंग काउंसिल भोपाल की रजिस्ट्रार चंद्रकला दिवगैया ने आव्हान किया है कि प्रदेश के सभी नर्सिंग छात्र-छात्राए तथा प्राध्यापकगण इस संगोष्ठी में अधिक से अधिक संख्या में सम्मिलित होकर इसका लाभ उठाएं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local