World Humanitarian Day 2020 : मनोज जानी पेटलावद (झाबुआ) (नईदुनिया)। कोरोनाकाल में जहां अपने भी पराए हो गए, वहां राज्य लोक सेवा आयोग (पीएससी) की परीक्षा की तैयारी कर रहे एक युवक ने चार-पांच साथियों के साथ मिलकर 20 से अधिक लावारिस शवों का अंतिम संस्कार किया। इसमें उनके मददगार बने सुल्तान ए हिंद के सिपाही।

झाबुआ जिले के पेटलावद के छोटे से गांव झकनावदा के रहने वाले 28 वर्षीय जय्यू जोशी इन दिनों इंदौर में रहकर पीएससी की तैयारी कर रहे हैं। वे बताते हैं कि बचपन में माता-पिता को खोने के बाद जीवन में कई बार परेशान होना पड़ा। उस समय कई लोगों ने मदद की तो यहां पहुंच पाया।

जय्यू का कहना है कि उस समय लोगों ने मुझे मदद दी। इसलिए अब मैं दूसरों की मदद करना चाहता हूं। इस काम में मित्र शैलेष शर्मा, पुनीत अटारे, जितेंद्र सिसौदिया भी सहयोग दे रहे हैं। हम सभी शहर के विभिन्ना वृद्धाश्रमों में जाकर सेवाएं दे रहे हैं।

37 साल से लावारिस शवों के अंतिम संस्कार का काम कर रहे सुल्तान ए हिंद की पंरपरा को आगे बढ़ा रहे फिरोज पठान कहते हैं कि शहर के बहुत से लोग आर्थिक मदद तो कर देते हैं, लेकिन अंत्येष्टि में सहयोग करने वाले कम मिलते हैं। कोरोनाकाल में इन युवाओं ने शवों का अंतिम संस्कार करवाने में मदद की।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020