आजकल स्कूल बंद हैं। बच्चे घरों में कैद हैं। इसको लेकर जानी मानी शायरा ज्योति आजाद खत्री का कहना है कि ऐसी सूरत में बच्चों को खुश रखना, उन्हें बिजी रखना हमारी प्रथम जिम्मेदारी है। इसके लिए अभिवावकों को चाहिए कि वो बच्चों को अपना वक्त दें, उनसे बातचीत करें, खेलें। क्रिएटिव एक्टिविटीज में उन्हें इन्वॉल्व करें, उनका रुझान बढ़ाएं। बच्चों को अच्छी किताबें उपलब्ध करवाई जाएं, जिससे उनका दिमाग विकसित हो और वो सकारात्मक ऊर्जा से खुद को लबरे रख सकें। उनका कहना है कि घर में आप उनके साथ इनडोर गेम्स जैसे कि लूडो, कैरम आदि भी खेल सकते हैं। अगर बच्चों को डांस में रुचि है तो आप उनके वीडियोज बनाकर अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ शेयर कर सकते हैं। उनके पॉजिटिव रिप्लाय से प्रशंसा कर बच्चों का मनोबल बढ़ा सकते हैं। उन्हें खुश भी रख सकते हैं। उनके पसंद के व्यंजन बनाकर भी उनका दिल जीता जा सकता है।

ज्योति ने कहा कि घर के डेली रुटीन के काम में भी बच्चों की सहायता ली जा सकती है। जैसे कि साफ सफाई, बुक सेल्फ़, फ्रिज की साफ-सफाई आदि। याद रखें-आज के बच्चे कल का भविष्य हैं। हमें उन्हें कोरोना के खौफ से दूर रखना होगा, सुरक्षित रखना होगा। इस सब के लिए सबसे महत्वपूर्ण है हमारा वक्त, जो हमें अपने बच्चों को देना चाहिए।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close