कटनी। नईदुनिया प्रतिनिधि

मौसमी बीमारियों की चपेट में जिले के नागरिक हैं। इन दिनों पीएचई विभाग की उदासीनता से गंदे पानी की चपेट में जिले के नागरिक आ रहे हैं। कहीं पर जल की सफाई के लिए क्लोरीन ंका वितरण भी नहीं हो रहा है।

जिले में मौसमी बीमारियां लोगों को अपने चपेट में ले रही हैं। आलम यह है कि जिला अस्पताल के वार्डों के बैड पर फुल हैं और मरीजों का इलाज फर्स पर किया जा रहा है। ओपीडी में रविवार को 5 सौ से अधिक मरीजों पर्ची कटवाई। ओपीडी में काफी संख्या में लोगों की भीड़ नजर आई। सभी मौसमी बीमारियों के कहर से परेशान थे। काफी संख्या में मरीजों को भर्ती भी किया गया। ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से ग्रामीणों के इलाज में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही हैं लिहाजा ग्रामीण इलाज के लिए जिला अस्पताल में काफी संख्या में आ रहे हैं। इसी का नतीजा है जिला अस्पताल के वार्डों के बैड फुल हो गए हैं।

उल्टी-दस्त, सर्दी से पीड़ित

मौसमी बीमारियों की चपेट में आए अधिकांश ग्रामीण उल्टी-दस्त और सर्दी से पीड़ित हैं। इसी वजह से मरीजों को बुुखार आ रहा है। बुखार नहीं उतरने पर अधिकांश मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। मरीज दो से तीन दिन तक भर्ती रह रहे हैं। जिला अस्पताल की दवाओं से भी मरीजों को पर्याप्त राहत नहीं मिल रही हैं। वहीं मरीज जिला अस्पताल की अराजकता से भी परेशान हो रहा है। मौसमी बीमारियों की चपेट में आए अधिकांश ग्रामीण उल्टी-दस्त और सर्दी से पीड़ित हैं। इसी वजह से मरीजों को बुुखार आ रहा है। बुखार नहीं उतरने पर अधिकांश मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। मरीज दो से तीन दिन तक भर्ती रह रहे हैं। जिला अस्पताल की दवाओं से भी मरीजों को पर्याप्त राहत नहीं मिल रही हैं। वहीं मरीज जिला अस्पताल की अराजकता से भी परेशान हो रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close