कटनी(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर को सिटी बस सुविधा नहीं मिल पा रही है। अधिकारियों के पास इसका समुचित जवाब नहीं है। जब इस संबंध में बात की जाती है। बस यही जवाब होता है कि बस सिटी बस शहर को अगले महीने ही मिल जाएगी लेकिन महीने दर बीतते जा रहे हैं। ऐसे में अब सवाल है कि आखिर शहर की सिटी बस सेवा कहां रुक रही है।

शहर में सिटी बस चलने का सपना पूरा नहीं हो पा रहा है। इसके बाद अधिकारी मामले तारीख को आगे बढ़ाते जा रहे हैं लेकिन शहर में सिटी बस का सपना पूरा होता नहीं दिख रहा है। मार्च के बाद कैमोर, विजयराघवगढ़ सहित अन्य शहर से लगे क्षेत्रों में बस चलाने के लिए निविदा बुलाई गई थी। हालांकि निविदा का दौर कई वर्षों से जारी है लेकिन शहर को आरामदायक सार्वजनिक परिवहन नहीं मिल पा रहा है। मामले में कागजों से फाइल निकल पा रही है। प्रक्रिया निविदा पर अटकी है।

सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) बंद होने से निजी बस ऑपरेटर मौज में थे, तो यात्री किराया, अभद्र व्यवहार और मनमानी का सामना कर रहे थे। लेकिन अब शासन के नगरीय प्रशासन व विकास विभाग ने रोडवेज का तोड़ निकालते हुए दीनदयाल सिटी बस सर्विसेस कटनी लिमिटेड बना दिया है। इसका संचालन प्रशासनिक अधकिारियों के साथ नगरनिगम द्वारा किया जाएगा। इसके लिए निविदा बुलाकर बसों का अनुबंध भी किया गया है। लक्जरी व आधुनिक सुविधाओं से लैस बसें लोकल रूट के अलावा अन्य रूटों में पर भी दौड़ेंगी। इसके लिए विभिन्नाा क्लस्टर बनाए गए हैं। इसमें कटनी, सतना, जबलपुर सहित अन्य कलस्टरों में बांटे जाएंगा। बसों का संचालन प्रियदर्शिनी बसस्टैंड से होगा। जल्द ही बसों के चलने का समय, स्टापेज, किराया आदि का निर्धारण होगा।

निर्धारित स्थान पर ही स्टापेज होगा

बस स्टाफ, डिपो स्टाफ, डीजल, रखरखाव, किराया निर्धारित किया जाएगा। बसों की खासियत होगी कि यह निर्धारित स्टापेज पर ही रुकेंगी और तय समय में अपनी दूरी तय करेंगी। बसों के भीतर आगामी स्टापेज आने की सूचना कंप्यूटरीकृत डिस्पले से साउंड के साथ मिलेगी। इससे यात्री स्टाप आने से पहले ही अलर्ट हो सकेंगे।

इससे मिलनी थी निजात

निजी बस संचालकों की मनमानी पर लगाम कसेगी।

ओवरलोडिंग की समस्या खत्म होगी।

यात्रियों से मनमाना किराया भी नहीं वसूला जा सकेगा।

बस की छत पर अवैध तरीके से सामान का परिवहन रुकेगा।

यात्रा के दौरान सुरक्षा की गारंटी होगी।

ड्रेस कोड विथ नेमप्लेट होगा स्टाफ।

बस संचालन में गड़बड़ी की शिकायत भी यात्री कर सकेंगे।

जीसीटी की बसों में जीपीएस सिस्टम होगा, जिससे पदाधकिारी बसों की मॉनिटरिंग कर सकेंगे।

प्रियदर्शिनी बसस्टैंड पर टीनशेड, बेंच, पेयजल और सौंदर्य प्रसाधन की सुविधा से लैस डिपो बनेगी।

कंप्यूटरीकृत टिकिट मिलेगा। बस के भीतर सीसीटीवी कैमरे होंगे, जो चोरी विवाद के साथ अन्य काम आएंगे।

यात्री अपने साथ होने वाले अभद्र व्यवहार की शिकायत पदाधकिारियों को सीधे कर सकेंगे।

2010 से चल रही प्रक्रिया

जानकारी के अनुसार नगर निगम में 2010 में प्रस्ताव पास होने के बाद कई दौर के निविदा निकाले गए थे। हर बार जल्द से जल्द लोगों को सिटी बस की सुविधा उपलब्ध कराने की बात कही है। इस बार कहा जा रहा है कि मई से शहर को सिटी बस की सौगात मिल सकती है लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हो सका।

इस तरह चलना है सिटी बसः सिटी बस सेवा का संचालन तीन क्लस्टरों में किया जाएगा। क्लस्टर एक में 24 बसें, क्लस्टर दो में 20 बसें और क्लस्टर तीन में 18 बसें संलग्न कर संचालित की जाएंगी। इन्टरसिटी बस सेवा में पन्नााा, कैमोर, रीठी, बरही, मैहर, छतरपुर, बहोरीबंद, कान्हा जैसे दूरस्थ शहरों एवं स्थानों के अलावा शहर के विभिन्नाा क्षेत्रों में भी आम नागरिकों को परिवहन की सुविधा दिलाने बसों का संचालन जाना है।

नवंबर से कटनी से इंदौर चल रही है बसः

नगर निगम द्वारा हब एंड स्पोक मॉडल आधारित क्लस्टर का निर्माण कर कटनी शहर व आसपास के शहर में बस सुविधा के लिए विभिन्नााा बस रूट तय किए गए हैं। इनमें लोगों की सुविधा के लिए एसी व नॉन एसी बसों का संचालन किया जाना है। नवंबर में कटनी से इंदौर के बीच सेवा के लिए दो बसों का संचालन प्रारंभ किया गया था। कटनी से इंदौर के अलावा कटनी से बालाघाट, कटनी से कान्हा तक एसी बस और चाका से पिपरौध और बिलहरी से बस स्टैंड मिनी बसों का संचालन भी प्रस्तावित है। दीनदयाल सिटी बस सेवा सर्विसेस लिमिटेड के माध्यम से प्रारंभ की गई कटनी से इंदौर के बीच बस सेवा शुरू हुई थी। यह बस कटनी से शाम सात बजे निकलती है। सागर दमोह, भोपाल रीठी होते हुए इंदौर जाती है। साढ़े सात आठ बजे पहुंच जाती है। साढ़े सात बजे इंदौर से निकलती है। आठ बजे कटनी आ जाती है। कटनी से कान्हा तक का परमिट नहीं मिला। रीवा से कटनी जबलपुर का मिल जाएगा इसी महीने से चल सकती है।

वर्जन

ऑपरेटर की देरी के कारण योजना कुछ डिले हुई है । जल्द ही शहर को सिटी बस मिले प्रय़ास जारी हैं। - सत्येंद्र सिंह धाकरे, आयुक्त नगरनिगम

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close