कटनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देर शाम उमस ने शहर में के मौसम में उमस बढ़ा दी। हालांकि बिल्कुल कम सही लेकिन बारिश होने से लोगों को कुछ राहत मिली। इसके साथ यह उम्मीद भी जगी कि अभी बारिश होगी।

इससे पहले उमस और गर्मी ने लोगों का जीना दूभर कर दिया था। इन दिनों किसान बारिश न होने से किसान होने लगे हैं।स्लीमनाबाद, मटवारा सहित अन्य गांवों में यह स्थिति बन रही है कि पानी गिरने से किसान अपनी धान की फसल को ऊपर से ही दूसरी फसल लगाने की तैयारी में जुट गए हैं। इस तरह किसानों को भारी घाटा झेलना पड़ा है। बहोरीबंद के कजरवारा सहित अन्य गांवों में भी अब किसान परेशान हो चुके हैं। बारिश न होने से जिले में अब सूखे के हालात बन रहे हैं।

पिछले वर्ष और औसत से इस बार कम बारिश हुई है। कम बारिश ने किसानों को परेशानी में डाल दिया है। चालू वर्षाकाल में जिले में अब तक कुल 340.1 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड की गई है जबकि जिले की कुल सामान्य औसत वर्षा 1124.4 मिमी है। पिछले साल इस अवधि में कुल वर्षा 435.3.0 मिमी दर्ज की गई थी। किसान बेहद परेशान हैं। किसी तरह करके फसल में पंप की सहायता से रोपाई के काम में लगे हैं लेकिन रही-सही कसर बिजली ने पूरी कर दी है। जिले के किसान किसान बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। बारिश न होने से फसल सूख रही है। सिंचाई के पर्याप्त संसाधन होने से वो बेबस हैं। बस टकटकी लगाए बैठे हैं। यहां सावन में गर्मियों के जैसा माहौल देखने को मिल रहा है।

कम बारिश के चलते फसलों पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। ऊपर से बिजली कटौती ने रही-सही कसर पूरी कर दी है। तालाब भी अभी नहीं भर सके हैं। इससे किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिले के कई गांवों में कृषि फीडर के ट्रांसफार्मर बंद पड़े हैं। कम बारिश और तापमान बढ़ने से खरीफ फसलों की वृद्धि रुकने की भी आशंका किसानों को सता रही है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष रकबा बढ़ा है। किसानों के मुताबिक आने वाले दिनों में अच्छी बारिश नहीं हुई और मौसम में नमी नहीं आती है तो ये नुकसान बढ़ सकता है। किसानों ने बताया कि हमने जैसे-तैसे रोपाई तो कर दी है लेकिन बारिश न होने से परेशानी बढ़ गई है। जिले में इस तरह की स्थितियां किसानों को परेशान कर रही हैं। किसानों ने बताया कि यदि बारिश नहीं हुई तो उनके सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो जाएगा।

जरा सी बारिश बिगाड़ देती है बिजली की व्यवस्था

कटनी शहर की स्थिति इन दिनों अजीब है। यहां पर जरा सी बारिश का मौसम बनते ही शहर की बिजली एक घंटे पहले ही चली जाती है। गर्मी और उमस में इससे आम नागरिकों को परेशानी होती है। लेकिन बिजली फिर घंटों बाद आती है। शहर में मंगलवार को देरशाम बारिश तो बहुत कम ही हुई लेकिन बिजली घंटों के लिए चली गई।

वर्जन

बारिश अभी होने की उम्मीद है किसान अपनी नर्सरी और फसलों को कीट से बचाएं। स्थानीय कृषि कार्यलयों से आवश्यक सलाह ले सकते हैं।

- अशोक राठौर, उपसंचालक कृषि

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close