कटनी। नईदुनिया प्रतिनिधि

लोक निर्माण विभाग की निगरानी में बनी मटवारा से बंधी गांव की दो किलोमीटर की सड़क जगह-जगह गड्ढे निकल आए हैं। बारिश के सीजन में यह सड़क जर्जर हो चुकी थी, दो ढाई फीट के गड्ढे से ग्रामीण निकलने मजबूर थे।

गांव वालों की परेशनी को देखते हुए स्थानीय जनप्रतिनधि ने इन गड्ढों में मुरम डलवाकर उस समय मरम्मत करा दी थी। लेकिन मार्बल के पत्थरों से ओवरलोड हाइवा निकलने के कारण गड्ढों में डाली गई मुरम भी ना काफी रही। सनद रहे कि यह सड़क बंधी, मटवारा, सरसवाही सहित तमाम गांवों के भीतर से होकर सीधे माधवगनर जाकर निकलती है। सुलभ और यातायात विहीन सड़क होने के कारण कटनी जाने वाले अधिकांश राहगीर इसी सड़क मार्ग से होकर जाना पसंद करते हैं। लेकिन मटवारा और बंधी के बीच निकले गड्ढों की वजह से यह सड़क राहगीरों के लिए खतरे की घंटी बजा रही है। बरसात में बडे गड्ढे निकलने के कारण कई बार हादसे घटित हो चुके हैं। हादसों से सबक लेकर स्थानीय जनप्रतिनिधि पहले से खुद गड्ढे भरवाए लेकिन कुछ दिनों सड़क फिर जस की तस हो गई। जिस पर जनप्रतिनिधि ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से मिलकर गड्ढों को भरवाने का काम तो शुरू करा दिया था, लेकिन गड्ढे भरने वालों ने आधे गड्ढों को भरा और बाकी गड्ढों को अधूरा छोडकर विलुप्त हो गए हैं। लगभग तीन माह से काम बंद पडा है, जिससे सड़क किनारे पडी गिट्टी सड़क पर फैलकर बर्बाद हो रही है। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को इस काम की फिकर ही नहीं है। विभाग से आज तक कोई अधिकारी सड़क का हाल जानने नहीं पहुंचा। माना कि लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के पास पूरे जिले का जिम्मा है लेकिन यह सड़क भी तो उनकी ही जद में आती है। फिर भी अधिकारी निष्क्रिय बने हुए हैं।

एक साल से सड़क का बुरा हाल

ग्रामीण बताते हैं कि सड़क को बने महज पांच साल भी पूरे नहीं हुए थे कि सड़कों पर गड्ढे निकलना शुरू हो गए थे। स्थानीय जनप्रतिनिधि ने कई बार अपने जेब का पैसा लगाकर सड़कों के गड्ढे भरवाकर दुरुस्ती करण का काम करवाया। लेकिन फिर से जर्जर हुई सड़क के गड्ढे भरने का काम विभागीय अधिकारियों ने लगवा तो दिया लेकिन गड्ढे भरे गए की नहीं इसकी जानकारी लेना अधिकरियों ने मुनासिब नहीं समझा। अधिकारियों की इस बेरूखी से ग्रामीण बेवजह परेशान हो रहे हैं।

रात में मार्बल फैक्ट्रियों के हाइवा की धमाचौकड़ी

गांव के भीतर से होकर जिले को जोडने वाली इस सड़क पर पिछले कई वर्षो से रात में मार्बल फेक्ट्रियों और मुरम की खदानों से निकलने वाले हाइवा धमाचौकड़ी मचाए हुए हैं। मार्बल फक्ट्रियों से निकलने वाले ओवरलोड हाइवा के कारण सड़क जर्जर हालत में पहुंच चुकी है। लेकिन स्लीमनाबाद थाना की पुलिस सब कुछ जानकर भी अनजान बनी हुई है। जबकि थाना के ठीक सामने से यह ओवरलोड हाइवा निकलते हैं। लेकिन जब मार्बल फैकट्ररी वाले ही साहब के दरबारी बने हुए हैं तो साहब भी दरबारियों की सुरक्षा में शिद्दत से जुटे रहते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस