उमरियापान। ढीमरखेड़ा(नईदुनिया न्यूज)। ढीमरखेड़ा क्षेत्र में उड़द मूंग की खरीदी में किसान जमकर परेशान हो रहे हैं। उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। किसानों ने बताया कि यहां पर 1 जुलाई से खरीदी शुरू हुई लेकिन हफ्तों पोर्टल बंद रहा। इस दौरान 3216 किसानों क्षेत्र में मूंग उड़द की फसल बेचने के लिए पंजीयन करवाया था लेकिन किसानों को मैसेज ही नहीं पहुंचे और किसान अपनी बारी का इंतजार करते रहे और खरीदी की अंतिम तिथि ही निकल गई।

किसानों ने बताया कि पान उमरिया के समीप ग्राम पचपेढ़ी स्थित वेयरहॉउस में संचालित मूंग उड़द खरीदी केंद्र झिन्नााा पिपरिया में 10 सितंबर से लेकर 13 सितंबर के बीच पंद्रह सौ किसानों के एक साथ मैसेज आने से सैकड़ों किसान अपनी उपज को लेकर तोल करने के लिए खरीदी केंद्र पहुंचे।

किसानों ने बताया कि 14 सितंबर को बारदाना न होने से खरीदी बंद रही। वहीं 15 सितंबर को भी बारदाना की कमी से किसानों की खरीदी नहीं हुई है। अभी करीब अभी करीब 109 किसानों की मूंग उड़द की खरीदी नहीं हुई है और खरीदी बंद कर दी गई। किसान प्रशासन से खरीदी करवाने की मांग कर रहे हैं। किसानों ने कहा कि यदि उनकी फसल नहीं खरीदी गई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

किसानों ने बताया कि उन्हें पहले मैसेज नहीं मिले। 10 से 13 सितंबर के बीच सैकड़ों किसानों को एक साथ मैसेज पहुंचे जबकि खरीदी की अंतिम तिथि 15 सितंबर थी। किसानों ने बताया कि अब यह हो रहा है कि जिन किसानों की तुलवाई नहीं हो पाई वह किसी भी रास्ते से तुलाई करवाने के लिए तैयार हो रहे। ऐसी स्थिति में केद्रों में भ्रष्टाचार भी शुरु हुआ। इस पर रोक लगाने और खरीदी की खरीदी की तिथि बढ़ाए जाने की मांग स्थानीय किसानों ने की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local