किसानों के चेहरे पर लौटी रौनक, धान की फसल को फायदा

कटनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में मानसून की सक्रियता एक बार फिर बढ़ गई है। बीते चौबीस घंटों में जिलों के अधिकांश स्थानों पर बारिश रिकार्ड की गई है। जिले के ढीमरखेड़ा, विजयराघवगढ़, बहोरीबंद, रीठी, बड़वारा, बरही सहित अन्य स्थानों में बारिश हुई है।

इस बारिश से किसानों के चेहरे पर रौनक लौट आई है। इस बारिश से खरीफ की फसल विशेष रूप से धान के किसानों को फायदा होगा। जिले में हुई बारिश से विजयराघवगढ़ की झपावन नदी, उमरियापान की बेलकुंड नदी पर अच्छा पानी है। झपावन नदी के झिरियाघाट में बारिश की वजह से पुल के ऊपर पानी बह रहा है।

विजयराघवगढ़ में बिजली गिरने से मौत

विजयराघवगढ़ में बिजली गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार विनोद कोरी पिता महिपाल कोरी (37) अपने खेत में निदाई कर रहा था। दोपहर में इसी समय बिजली गिरी और उसकी मौत हो गई। मृतक के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। विजयराघवगढ़ विधायक संजय सत्येंद्र पाठक ने मृतक के परिवार को तत्काल 5 हजार रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई है। साथ ही अधिकारियों को निर्देशित किया है कि उसकी सहायता के लिए आवश्यक कागजी कार्रवाई पूरी कर लें ताकि अन्य सहायता भी उसे दिलवाई जा सके।

मानसून सिस्टम सक्रिय

विशेषज्ञों के मुताबिक मानसून सिस्टम सक्रिय रहने से आज पूर्वी मप्र समेत अनेक इलाकों में बारिश का सिलसिला शुरू हुआ है। इनके सक्रिय रहने से प्रदेश में एक सप्ताह तक बारिश का सिलसिला बना रहने की संभावना है।

खुश हुआ अन्नदाता

जिले का अन्नदाता इन दिनों आसमान में आंख लगाए था। बारिश का इंतजार में आंखे पथरा गई थीं। वहीं ट्यूबवेल से अपने खेत में पानी भरकर धान को बचाने की कवायद में जुटे किसानों को बिजली नहीं मिलने से पौध बचाना भी चुनौती बन गया था। इस बारिश ने किसानों के चेहरे की रौनक लौटाई है।

फसलों का लक्ष्यः जिले में कृषि विभाग के अनुसार 2 लाख 17 हजार हेक्टेयर में खरीफ फसल की बोवनी की गई है। जिलेभर में कुल 2 लाख 17 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में धान 1 लाख 95 हजार हेक्टेयर में बोई गई है। इसी तरह तिल बोवनी का लक्ष्य 12 हजार हेक्टेयर है। मक्का 3 हजार हेक्टेयर में बोया गया है। डेढ़ हजार हेक्टेयर में अरहर बोवनी की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local