कटनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कटनी जिले की एक और प्रतिष्ठित नगर परिषद बरही में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में निर्विरोध निर्वाचन हुआ। जिसमें पीयूष अग्रवाल अध्यक्ष एवं आदिवासी समाज से आने वाले मोहन सिंह गौड उपाध्यक्ष बने। कटनी जिले में चल रहीं निर्विरोध निर्वाचन की प्रक्रिया में एक और नगर परिषद बरही का नाम जुड़ गया। इसके कर्णधार रहे विधायक संजय पाठक उन्होंने बरही नगर में भी निर्विरोध अध्यक्ष उपाध्यक्ष निर्विरोध हो इसके लिए कल रात से प्रयास प्रारंभ कर दिए थे। उन्होंने सभी दल के पार्षदों से चर्चा कर आम सहमति के आधार पर निर्णय आये इस दिशा में भागीरथी प्रयास करते हुए बहुमत के आधार पर निर्विरोध निर्वाचन के लिए एकमत कर लिया।

भारतीय जनता पार्टी संगठन की ओर से जिलाध्यक्ष रामरतन पायल द्वारा भेजे गए चुनाव प्रभारी जिला उपाध्यक्ष सुनील उपाध्याय एवं छिंदवाड़ा पूर्व विधायक अभय चौरे ने भाजपा के पार्षदों से भेंट कर भाजपा के अध्यक्ष उपाध्यक्ष के निर्वाचन के संबंध में बैठक की। जिसके बाद रविवार को नगर परिषद अध्यक्ष के लिए पीयूष अग्रवाल एवं आदिवासी वर्ग से आनेवाले मोहन सिंह गौड ने उपाध्यक्ष पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया। निर्धारित समय सीमा में जमा नमांकन पत्र के आधार पर पीयूष अग्रवाल एवं मोहन सिंह गौड को निर्वाचित घोषित किया गया। विजयराघवगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक संजय सत्येन्द्र पाठक ने तीनों नगर परिषदों में भारतीय जनता पार्टी के र्निविरोध अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष निर्वाचित होने की ऐतिहासिक जीत पर हर्ष जताया और कार्यकर्ताओं, पार्षदों और जनता का आभार व्यक्त किया।

उन्होंने मीडिया से संवाद के दौरान कहा अपने विजयराघवगढ़ विधानसभा क्षेत्र के तीनों नगर परिषद के सभी मतदाताओं और नागरिकों का आभार व्यक्त करता हूं कि आपने बरही, विजयराघवगढ़ एवं कैमोर तीनों नगर परिषदों से अच्छे और सुयोग्य पार्षद चुने। जिसके कारण शनिवार को विजयराघवगढ़ और कैमोर र्निविरोध भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्षों का निर्वाचन हुआ और रविवार को बरही नगर परिषद के सभी 15 पार्षदों ने मिलकर र्निविरोध अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का निर्वाचन करके बरही को गौरवान्वित करने का अवसर प्रदान किया है। मैं विधायक एवं विधानसभा विजयराघवगढ़ का प्रथम सेवक होने के नाते भारतीय जनता पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता और पार्षदों का आभार व्यक्त करता हूं और विश्वास दिलाता हूं कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के मार्गदर्शन में तीनों नगर परिषद बहुत अच्छा काम करेंगी और विकास के नए आयाम स्थापित करेंगी।

इससे पूर्व कांग्रेस की ओर से उनके नेताओं द्वारा अपना अध्यक्ष बनाने के दावे सोशल मीडिया पर किए जाते रहे पर वास्तविकता के धरातल पर कांग्रेस के दो पार्षद भाजपा के पक्ष में आ चुके थे अंतिम दौर में बाकी बचे चार पार्षदों ने नगर हित को देखते हुए मिलजुल कर परिषद में कार्य हों इस सोच पर चलते हुए नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया ।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close