कटनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में लगातार वर्षा होने से मकानों नुकसान पहुंच रहा है। खासकर शहर की भीतर बने पुराने और कच्चे मकानों में रहने वालों को भारी खतरा लग रहा है। रक्षाबंधन के दिन लगातार वर्षा जिले हो रही है। रिमझिम वर्षा के कारण शहर के भीतर कई जगह मकान धराशायी हो गए है। शहर में हुए हादसों को देखने मौके पर प्रशासनिक अधिकारी और जनप्रतिनिधि और पीडित लोगों को ढांढस बंधाया।

जानकारी के अनुसार रिमझिम वर्षा में लगातार ग्रामीण इलाकों में भी हादसे हो रहे है। शहर में करीब 6 मकान कावसजी वार्ड में धराशायी होने से शहर में कच्चे मकानों में रहने वाले लोग दहशत में है। बताया जाता है कि कावसजी वार्ड के दुर्गा मंदिर के पास धीरज भारतीय पिता श्याम लाल भारतीय 35 वर्ष, सुमित्रा भारतीय पिता कामता प्रसाद 60 वर्ष, ममता चौधरी पिता मंजिल चौधरी 50 वर्ष, दीपक वंशकार पिता मुन्नाी लाल वंशकार, प्रमोद गोटिया पत्नी गीता गोटिया के मकानों को क्षति पहुंची है।

पीडित गीता बाई ने बताया कि हम अपने बच्चों के साथ कच्चे मकान में सो रहे थे, अचानक रिमझिम वर्षा में मकान ढह गया। उनके साथ 10 साल की बच्ची घर गिरने से दब गईं। घर के सभी लोगों को तो बचा लिया गया, लेकिन गृहस्थी का पूरा सामान मलबे में दब कर बर्बाद हो गया। दो दिन से घर में खाना नहीं बना। जिससे भारी परेशानी का सामना करना पड रहा है। कावसजी वार्ड के स्थानीय लोगों ने कांग्रेस नेता राजेश जाटव को सूचना देकर बुलाया। राजेश जाटव ने तहसीलदार और पटवारी को सूचना दी तो अधिकारियों ने घटना स्थल पर पहुंचने का आश्वाशन दिया लेकिन मौक़े पर कोई आला अधिकारी नहीं पहुंचा।

प्रशासन की कोई तैयारी नहीं: शहर के अंदर वार्डो में बहुत से मकान है जो गिरने की कगार पर है। लेकिन प्रशासनिक अधिकारी उनकों गिराने का काम नहीं कर रहे है। पिछले दिनों हो रही वर्षा से लगातार आसपास के लोगों को भी खतरा बना हुआ है। रिमझिम वर्षा में किसी भी दिन इन मकानों के धराशायी होने की सूचना मिल सकती हैं। लेकिन प्रशासन की तरफ से इन मकानों को गिराने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है। ऐसा मानना है कि अधिकारी किसी बडे हादसे के इंतजार में है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close