बरही (नईदुनिया न्यूज)। बरही तहसील क्षेत्र विष्टा कंपनी के द्वारा मनमाने तरीके से रेत का व्यापार किए जाने का आरोप स्थानीय लोगों ने लगाया है। नागरिकों ने बताया कि यहां चौतरफा रेत का कारोबार दबंगई से किया जा रहा है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि जाजागढ़ पिपही नदी में स्वीकृत खदान से मनमाने तरीके रेत निकाली जा रही है। बगल से लगी वन विभाग की पिपही नदी भी सुरक्षित नहीं हैं। वहां से रेत निकाली जा रही है। यही नहीं यहां रात में भी परिवहन किया जा रहा है। इससे वन्य प्राणियों के सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं। इनकी सुरक्षा वन विभाग के अधिकारियों के ऊपर हैं लेकिन वे बेपरवाह बने हैं।

स्थानीय लोगों ने बताया कि रेत बड़ी व छोटी नदियों से मनमाने तरीके से मशीनों से निकाली जा रही है। यहां पर सारे नियमों को ताक में रखकर रेत का उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है। रेत खदानों में नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बड़े पैमाने पर अंधाधुंध खनन किया जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि रात दिन नदी में मशीन द्वारा खुदाई कर रेत निकाली जा रही है। ट्रक, हाइवा व ट्रेक्टर से परिवहन किया जा है। ओवर लोड हाईवों ने प्रधानमंत्री सड़क की सूरत बिगाड़ दी है। इससे सड़क क्षतिग्रस्त हो गई है।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि खनन छोटी-छोटी नदियों का अस्तित्व ही खतरे में आ गया है। जहां से भी रेत निकल सकती है नियमों को ताक पर रखकर रेत निकाली जा रही है। नागरिकों ने बताया कि इससे नदियों व जल जीवों में जल संकट मंडराने लगा है। महानदी उमड़ार, पिपही नदी में रेत का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। स्थानीय लोगों में सत्येंद कुमार, मोहम्मद निजाम, दीपक कुमार, अभिराज कुमार सहित अन्य लोगों ने मामले में प्रशासन से जांच की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस