खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। हाथ से बनी वस्तुओं को हम मार्केट उपलब्ध कराने का प्रयास कर रहे हैं। गृह उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार आगे है। ऐसे लोगों को अच्छा मार्केट देना हमारा काम है। मैंने अचार-मुरब्बा, साबुन तेल स्टाल से खरीदा है। 'आप सबको भी पहले इस्तेमाल करो फिर विश्वास करो' की तर्ज पर इस पहल के लिए आगे आना चाहिए।

यह बात वनमंत्री विजय शाह ने बुधवार को गौरीकुंज सभागृह परिसर में लगे खादी ग्राम उद्योग के स्टाल से खरीदारी करने के बाद कही। उन्होंने खादी ग्राम उद्योग के हर स्टाल पर पहुंचकर बिक रही वस्तुओं की जानकारी ली। हालांकि यहां खंडवा जिले का एक भी स्टाल नहीं लगा नजर नहीं आया। इससे पूर्व मंत्री ने गौरीकुंज सभागृह में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मंत्री शाह ने कहा कि आदिवासी परिवारों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए हमारी सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। आदिवासी और जनजातियों के जीवन में ऐसी खुशियां आएंगी जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। पहले बैंक दस लाख रुपये का ऋण लेने में 25 फीसद मार्जिन मनी देनी पड़ती थी। इसके अलावा अमानत के तौर पर कागज भी जमा कराए जाते थे। अब इस तरह की कोई बंदिश नहीं है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक राम दांगोरे ने कहा कि आज प्रधानमंत्री रोजगार सृजन के अंतर्गत दस लाख से 35 लाख रुपये का ऋण दिया जा रहा है। इसमें 35 फीसद सब्सीडी दी जा रही है। युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए प्रदेश और केंद्र सरकार सतत काम कर रही है। कार्यक्रम को विधायक देवेंद्र वर्मा ने भी संबोधित किया। इस दौरान अतिथियों द्वारा युवाओं को ऋण राशि के स्वीकृति पत्र भेंट किए। कार्यक्रम में कलेक्टर अनूपकुमार सिंह ने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना की जानकारी दी। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष सेवादास पटेल ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान भोपाल से प्रसारित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के उद्बोधन का सीधा प्रसारण भी दिखाया गया।

स्वजन संक्रमित फिर भी कार्यक्रम में शामिल हुए मंडल अध्यक्ष

इधर, गौरीकुंज सभागृह में आयोजित कार्यक्रम में भाजपा मंडल अध्यक्ष सुधांशु जैन के शामिल होने पर हड़कंप की स्थिति रही। जैन के स्वजन कोरोना संक्रमित होकर होम आइसोलेट हैं। ऐसे में चर्चा रही कि वे कार्यक्रम में शामिल होने के साथ ही मंत्री शाह के साथ मंच पर भी बैठे रहे जो बड़ी लापरवाही है। इस मामले में जब मंत्री शाह से मीडियाकर्मियों ने चर्चा की तो उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। यदि परिवार में कोई पाजीटिव है तो किसी को बाहर नहीं निकलना चाहिए। यह गलत है। इधर इस पूरे मामले में मंडल अध्यक्ष जैन का कहना है कि नियमानुसार सात दिन क्वारंटाइन होने के बाद ही मैं घर से बाहर निकला हूं। इसमें कोई

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local