खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सुक्ता जल प्रदाय योजना के तहत सुक्ता फिल्टर प्लांट से खंडवा तक पाइप लाइन बिछाने का काम अब कृषि कालेज परिसर में भी शुरू कर दिया गया है। यहां लाइन बिछाने के लिए गड्ढे खोदे जाने के बाद बारिश के कारण काम ठप पड़ा था। शनिवार को कंपनी के कर्मचारी जेसीबी की मदद से पाइप लाइन बिछाने में लगे रहे।

नगर निगम द्वारा 9 करोड़ 60 लाख रुपये की लागत से 11 किमी तक सुक्ता की पाइप लाइन बिछाई जा रही है। पहले चरण में नगर निगम द्वारा सुक्ता फिल्टर प्लांट से काम शुरू किया था। जसवाड़ी गांव तक पाइप बिछाने के बाद 400 मीटर का एरिया अतिक्रमण के कारण छोड़ दिया गया। अब गांव के बाहर करीब पौने चार किमी पाइप लाइन बिछाई जा चुकी है। इधर शनिवार से दूसरे चरण में शहर के कृषि कालेज परिसर में भी पाइप लाइन बिछाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यहां पथरीली जमीन होने के कारण पाइप लाइन बिछाने के लिए गड्ढों की खोदाई में लंबा समय लगा। इसके बाद बारिश के कारण काम अवरुद्ध हो गया। नगर निगम के इंजीनियर प्रशांत पंचोरे ने बताया कि बारिश का सिलसिला थम चुका है। ऐसे में यहां पाइप बिछाने में अब कोई बाधा नहीं है। कृषि कालेज परिसर में 900 मीटर तक पाइप बिछाए जाने हैं। फिलहाल यहां 700 मीटर तक खोदाई की जा चुकी है और पाइप बिछाने का काम चल रहा है। विदित हो कि नगर निगम के अधिकारियों ने तीन चरणों में पाइप लाइन बिछाने का काम शुरू करने की बात कही थी। तीसरे चरण में सर्किट हाउस के पास नर्मदा जल योजना के संपवेल से अभी पाइप बिछाने के लिए कोई प्रक्रिया शुरू नहीं हुई है।

लोगों ने स्वेच्छा से नहीं हटाया अतिक्रमण

सुक्ता जल प्रदाय योजना के तहत पाइप लाइन बिछाने में बाधक बन रहे अतिक्रमण लोगों ने स्वेच्छा से नहीं हटाए हैं। ग्राम जसवाड़ी में नगर निगम आयुक्त सविता प्रधान पिछले दिनों अधिकारियों के दल के साथ पहुंची थीं। तब चर्चा के दौरान उन्होंने ग्रामीणों से कहा था कि आप स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा लें यदि जेसीबी से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई होती है तो आपका अधिक नुकसान होगा। उस दौरान लोगों ने स्वयं ही अतिक्रमण हटाने पर सहमति जता दी थी लेकिन 15 दिन से अधिक समय बीत जाने के बाद भी लोगों ने स्वेच्छा से अतिक्रमण नहीं हटाए हैं। इधर शहरी क्षेत्र में बाधक बन रहे अतिक्रमण भी नहीं हट सके हैं। इधर नगर निगम और राजस्व विभाग के अमले की ड्यूटी उपचुनाव में लगने के कारण अधिकारी भी अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। अब उपचुनाव के बाद बाधक बन रहे अतिक्रमणों को हटाया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local