खंडवा। खंडवा जिले में सहकारी कर्मचारियों के बाद अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायकों निजी धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। कलेक्ट्रेट परिसर में सोमवार को सहकारी कर्मचारियों के पंडाल के पास ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं धरने पर बैठ गई। यहां नियमितीकरण सहित अन्य मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने कहा हम कर्मचारी सरकार की विभिन्न योजनाओं को सरकारी कर्मचारी की तरह क्रियान्वित करती हैं।

सरकार की बहुत सारी महत्वाकांक्षी योजना जैसे टीकाकरण, पल्स पोलियो की दवा पिलाना, वोटर लिस्ट का सर्वे करना, जन्म मृत्यु का पंजीयन करना, जनगणना करना, मतदाता के नाम मतदाता सूची में शामिल करवाना सहित अन्य काम समय-समय पर आंगनबाड़ी कर्मचारियों को दिया जाता है। इसके अलावा नियमित अपने केंद्र को संचालित करना, बच्चों को प्राथमिक शिक्षा के साथ-साथ पोषण आहार देना, गर्भवती और धात्री महिलाओं एवं किशोरी बालिकाओं को पोषण आहार एवं आयरन की दवा पिलाने जैसा काम भी करते हैं। जबकि सरकारी, अर्द्धसरकारी और गैर सरकारी कर्मचारियों को इतना काम का बोझ नहीं दिया जाता है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मांगें

आंगनबाड़ी में कार्यरत सभी कर्मचारियों को सरकारी कर्मचारी घोषित किए जाने, सामाजिक सुरक्षा देकर उचित श्रेणी में यथाशीघ्र शामिल किए जाने, आंगनबाड़ी में कार्यरत कर्मचारियों को भारत सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन कार्यकर्ताओं को 18 हजार और सहायिकाओं को 9 हजार प्रतिमाह भुगतान किया जाने की मांग रखी। जिलाध्यक्ष अनिता कुल्हारे ने कहा कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं हुई तब तक धरना आंदोलन जारी रहेगा।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags