फोटो 06केएचए 02 वाहन पार्किंग के लिए दी गई बगैर सील लगी रसीद। नईदुनिया

- बगैर सील लगी रसीदे देकर की जा रही वसूली

खंडवा, ओंकारेश्वर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश में पर्यटन और तीर्थस्थलों पर प्रवेश कर समाप्त होने के बाद भी ओंकारेश्वर आने वाले श्रद्धालुओं को वाहन पार्किंग के नाम पर राशि चुकाना पड़ रही है। नगर परिषद को वाहन पार्किंग ठेके से करोड़ों की आय होने से ठेकेदार पर अधिकारी-कर्मचारी मेहरबान बने हुए है। ठेकेदार की मनमानी पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ठेकेदार के कर्मचारी मनमाने ढंग से वाहन पार्किंग शुल्क वसूल रहे हैं। इतना हीं नहीं नगर परिषद की बगैर सील व बुक नंबर के रसीद काट कर वाहन चालकों को थमाई जा रही है।

ओंकारेश्वर में परिषद की आय का मुख्य जरिया वाहन पार्किंग ठेका है। इस वर्ष करीब एक करोड़ पांच लाख रुपये में वाहन पार्किंग का ठेका गया है। वाहन पार्किंग ठेका की नीलामी जिन शर्तों पर की जाती है उनमें से अधिकांश का ठेकेदार द्वारा पालन नहीं किया जाता है। नगर परिषद के अनुबंध और नियमों के तहत वसूली नहीं किए जाने के कारण सार्वजनिक मार्गों पर ठेकेदार के कर्मचारियों द्वारा दादागिरी से अवैध रूप से वसूली की जाती है। नगर परिषद की अधिकृत रसीद प्रमाणीकरण किए बिना मनमाने रूप से वसूली करने की शिकायत लगातार सामने आ रही है। खासकर अन्य प्रदेशों के वाहनों से मनमानी राशि वसूली जाती है। जबकि नियमानुसार वाहन पार्किंग का शुल्क नगर परिषद द्वारा निर्धारित पार्किंग स्थल पर वाहन खडा करने वालों से ही वसूलना चाहिए। लेकिन यहां नगर प्रवेश के दौरान ही वाहन चालक से पार्किंग शुल्क वसूल लिया जाता है।

राजस्थान से आए श्रद्धालु सत्यनारायण पटेल ने बताया कि देश में ऐसी लूट कहीं नहीं देखी। धार्मिक नगरी में गुंडागर्दी के साथ यात्रियों से अभद्र व्यवहार और पार्किंग के नाम पर वसूली की जा रही है। पार्किंग के लिए उचित स्थान भी नहीं है।

गुजरात के मणिराम मीणा ने कहा कि जैसे ही ओंकारेश्वर में आए नगर प्रवेश करते ही चार -पांच लोगों ने हमारे वाहन को रोक कर वाहन पार्किंग शुल्क की मांग करने लगें। वाहन की सुरक्षा और पार्किंग स्थल के संबंध में पूछने पर उन्होंने बताया कि नगर में कहीं भी आप वाहन आपकी इच्छा हो वहां पर खड़ा कर देना।

अनेक श्रद्धालु तथा तीर्थ यात्रा पर आए बड़े -छोटे वाहनों से भी मनमाने तरीके से नगर परिषद के फारेस्ट तिराहे पर गजानन आश्रम व अन्य स्थानों पर वसूली दादागिरी से हो रही है । इस संबंध में नगरवासियों द्वारा कलेक्टर और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 181 पर भी शिकायत की है। नगर परिषद और जिला प्रशासन की ओर से प्रभावी कार्रवाई नहीं होने से ठेकेदार और कर्मचारी मनमाने ढंग से वाहन पार्किंग के नाम पर वसूली कर रहे है। चर्चा है कि ठेकेदार को क्षेत्र के वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों का वरदहस्त प्राप्त होने से वह नियम-कायदे को धत्ता दिखाकर काम कर रहा है।

वाहन पार्किंग ठेके का संचालन करने वाली कंपनी के मैनेजर विकास पारिख ने बताया कि रसीद बुक नगर परिषद सील लगा कर जारी करती है। कभी एक-दो पेज पर सील छूट जाती है। रसीद पर पार्किंग शुल्क छपा हुआ है। वही राशि ली जाती है। किसी से दादागिरी नहीं की जाती है।

- नगर परिषद सीएमओ मोनिका पारधी ने बताया कि ठेकेदार द्वारा बगैर सील वाली रसीद जारी की जा रही है तो जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। उसे नोटिस जारी किया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close