Bharat Jodo Yatra: वैभव श्रीधर, खंडवा। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा मप्र में दूसरे दिन गुरुवार को खंडवा के बोरगांव से प्रारंभ हुई। इस दौरान राहुल जनजातीय जननायक टंट्या मामा की जन्मस्थली बडौदा अहीर पहुंचे। इस दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए राहुल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) पर निशाना साधा। कहा कि जनजातीय जननायक टंट्या मामा को जब अंग्रेजों ने फांसी दी थी तब कांग्रेस ने विरोध किया था लेकिन आरएसएस ने अंग्रेजों का समर्थन किया था। प्रदेश में यात्रा के दूसरे दिन राहुल को अपनी बहन व पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का भी साथ मिला।

राहुल ने कहा कि टंट्या मामा की तरह ही आरएसएस का बर्ताव जननायक बिरसा मुंडा के साथ भी था। इन दोनों महापुरुषों ने अंग्रेजों से देश और आदिवासियों के लिए लड़ाई लड़ी। कांग्रेस ने देश से अंग्रेजों को भगाया। जब हम अंग्रेजों सेे लड़ाई लड़ रहे थे, तब ये (संघ)उनके साथ खड़े थे। वनवासी शब्द आपको समाप्त करने का शब्द है। यह हमें नहीं चाहिए। आदिवासी देश के पहले मालिक हैं।

आदिवासी शब्द को लेकर उन्होंने कहा कि जो हिंदुस्तान में सबसे पहले रहते थे। अगर आप आदिवासी हो और सबसे पहले यहां रहते थे तो इसका मतलब यह हुआ कि आप इस देश के असली मालिक हो। पिछले दिनों मैंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण सुना, जिसमें उन्होंने वनवासी शब्द का प्रयोग किया। इसके पीछे सोच आपको समाप्त करने की है। आदिवासी हो तो जमीन, जंगल और जल पर आपका अधिकार होना चाहिए। बच्चा इंजीनियर या डाक्टर बनने का सपना देखे तो सरकार को पूरी मदद करनी चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि जंगल के बाहर भी आपको अधिकार मिलना चाहिए। जब भाजपा की सरकारें स्कूल-कालेज और अस्पतालों को निजी हाथों में सौंप देती हैं तो बच्चों को शिक्षा नहीं मिल पाती है और स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं। वनवासी का मतलब यह हुआ कि आप पहले मालिक नहीं हो। जंगल के बाहर आपका कोई अधिकार नहीं है और जब जंगल नहीं बचेंगे तो देश में आपके लिए कोई जगह नहीं बचेगी। इसे आपको समझना है। हम आदिवासी कहते हैं क्योंकि यह मानते हैं कि आप देश के पहले मालिक हो।

राहुल ने कहा कि भाजपा के लोगों ने वनवासी कहकर आपका अपमान किया है, इसके लिए वह माफी मांगें और कहें कि आप आदिवासी हो। जो पेसा कानून, भूमि अधिग्रहण और वनाधिकार कानून हम लाए थे, उन्हें भाजपा की सरकारें ठीक से लागू करें। अगर नहीं करेंगे तो यहां हमारी सरकार आएगी, तब आदिवासी शब्द का प्रयोग करेंगे और जल, जंगल व जमीन का अधिकार वापस देना शुरू कर देंगे।

उन्होंने कहा कि देश में आदिवासियों पर सर्वाधिक अत्याचार मध्य प्रदेश में होते हैं। हमें ऐसा नहीं बल्कि आदिवासियों की रक्षा और सम्मान करने वाला प्रदेश चाहिए। वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने कहा कि हमने 15 माह की सरकार में आदिवासियों के हित में कई कदम उठाए थे।

टंट्या मामा एक सोच और विचारधारा

राहुल गांधी ने कहा कि टंट्या मामा एक सोच और विचारधारा थे। उनकी विचारधारा के कारण यहां आया हूं। आज उनके बारे में पढ़ रहा था और कि उनका जन्म 26 जनवरी को हुआ था और इसी दिन हम गणतंत्र बने थे। वे निडर थे। जब अंग्रेजों के सामने फांसी पर चढ़ रहे थे तो उनके मन में डर नहीं था क्योंकि उस डर को आपके प्यार ने मिटा दिया था।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close