खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर से सात किलोमीटर दूर इंदौर रोड पर गांव छैगांव देवी में विराजित मां रेणुका माता के दर्शन के लिए श्रद्वालु पहुंच रहे हैं। नवरात्र के दौरान अभिषेक व विशेष श्रृंगार किया गया। बुधवार को अष्टमी पर विशेष पूजन हुआ। गुरुवार को नवमी पर पूजन हवन के साथ नौ दिनों से जारी देवी पाठ का समापन भी होगा। सुबह हवन के बाद कन्या भोज व प्रसादी वितरण किया जाएगा। मां रेणुका समाज के कई परिवारों की कुलदेवी हैं। आसपास के 20 से अधिक गांवों से लोग अष्टमी व नवमी पर विशेष रूप से दर्शन के लिए पहुंचते हैं। इसके साथ ही खंडवा, खरगोन, बुरहानपुुर, इंदौर में जाकर बसे लोग भी साल में एक बार अवश्य दर्शन के लिए पहुंचते हैं। अपनी मनोकामना पूरी होने पर माता को नारियल या अन्य सामग्री चढ़ाते हैं। वहीं बच्चों का तुलादान भी करते हैं। रेणुका चौदस पर विशेष पूजन किया जाता है।

देवी ने बसाया था गांव

मान्यता के अनुसार यह मंदिर 700 वर्ष पहले से स्थापित है। रेणुका माता जम अग्नि ऋषि की पत्नी व भगवान परशुराम की माता हैं। ग्रामीणों के अनुसार प्राचीन काल में खांडव वन का यह क्षेत्र विरान था। उस समय यहां मां रेणुका ने तपस्या की थी। यहां से गुजरते हुए कुछ मुसाफिरों को उन्होंने यहीं पर गांव बसाने के लिए आदेश दिया व भोजन पानी का प्रबंध किया। इसके बाद से यहां बसाहट हो गई, इसीलिए गांव का नाम छैगांवदेवी है।

मां रेणुका की नवरात्र में रोजाना पूजा अर्चना की गई। नवमी पर आज फूलों से मां का विशेष श्रृृंंगार होगा। सुबह से हवन के बाद कन्या भोज आयोजित होगा। आसपास के सभी गांव के लोगों की मां पर आस्था है। नवरात्र के अलावा पूरे वर्ष यहां से गुजरने वाले लोग परिवार सहित दर्शन करने रूकते हैं। - पंडित आनंद पारे

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local