खंडवा, नईदुनिया प्रतिनिधि। श्रीधूनीवाले दादाजी महाराज के दरबार में गुरुपूर्णिमा उत्सव की तैयारियां तेजी से चल रही हैं। इस बार श्रद्धालुओं के लिए गणेश गौशाला चौराहे से दादाजी दरबार तक करीब 700 मीटर लंबे मार्ग पर मेट बिछाई जाएगी। श्रद्धालु चौराहे से आगे जूते-चप्पल नहीं ले जा सकेंगे। मंदिर परिसर में जहां विद्युत सज्जा और रथ घर में रखे वाहनों को पॉलिश करने का काम शुरू हो गया है। इसके साथ ही श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए यहां डोम भी तैयार हो गया है। डीआईजी मनोहर वर्मा ने बुधवार को यहां व्यवस्थाओं का जायजा लेकर स्थानीय अधिकारियों को निर्देश दिए। मंदिर मार्ग और परिसर में नजर रखने के लिए 100 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। इसके साथ ही यहां एक हजार पुलिसकर्मी भी तैनात होंगे।

खरगोन रेंज डीआईजी मनोहर वर्मा ने बुधवार को श्रीदादाजी मंदिर पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। गुरुपूर्णिमा पर आने वाली भीड़ को नियंत्रिण करने के साथ ही सुरक्षा व्यवस्था मुस्तैद की जा रही है। करीब एक हजार पुलिसकर्मी सुरक्षा व्यवस्था में तैनात रहेंगे। पुलिस द्वारा 50 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं, वहीं श्रद्धालूओं के लिए गणेश गौशाला चौराहे से दादाजी मंदिर तक मेट बिछाने का निर्णय लिया गया है। इसी तरह से श्रद्धालुओं के जूते-चप्पल गणेश गौशाला चौराहे पर ही उतरवाए जाएंगे। यहां इंदौर बायपास मार्ग पर जूते-चप्पल के लिए स्टैंड बनाए जाएंगे।

डीआईजी बोले- समाधि की सेवा के दौरान भी जारी रखें दर्शन

- गुरुपूर्णिमा को पांच शेष रह गए हैं। डीआईजी वर्मा सुबह करीब 10.30 बजे पुलिस अधीक्षक डॉ. शिवदयाल सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश परिहार और ट्रैफिक डीएसपी संतोष कोल के साथ दादाजी मंदिर पहुंचे।

- वर्मा ने श्री दादाजी दरबार परिसर में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। यहां भक्त रौचक नागौरी ने उन्हें गुरुपूर्णिमा पर किए जाने वाली व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी दी। श्रीदादाजी महाराज की समाधि पर 16 जुलाई को मुख्य दिवस पर की जाने वाली दर्शन व्यवस्था लेकर उन्हें रूट बताया गया।

- डीआईजी वर्मा ने कहा कि समाधि की सेवा के दौरान भी दर्शन जारी रखे जाएं। श्रद्धालुओं को बाहर से समाधि के दर्शन कराया जाएं। इससे भीड़ को नियंत्रित किया जा सकेगा। इसके अलावा दर्शन की लाइन को नहीं रोका जाए। उसे चलते रहने दें। ऐसा करने से एक जगह भीड़ नहीं लगेगी।

- उन्होंने एसपी सिंह को निर्देश दिए कि उत्सव के दिन धूनी अधिक प्रज्वलित रहती है। इसको देखते हुए धूनी में डाले जाने वाले नारियल व अन्य सामग्री श्रद्धालुओं से ले ली जाए। उन्हें सीधे धूनी में नहीं डालने दिया जाए।

- डीआईजी ने कहा कि प्रसाद की जगह पर ज्यादा देर तक श्रद्धालुओं को खड़े नहीं रहने दिया जाए। इसके बाद उन्होंने भक्त निवास का जायजा लिया। यहां करीब 10 से अधिक कार खड़ी हुई मिलीं। इस पर उन्होंने कहा की 15 से 16 जुलाई को यहां किसी भी तरह का वाहन खड़ा नहीं किया जाए। केवल श्रद्धालुओं को ही यहां ठहराया जाए। जरूरी सामग्री लाने वाले वाहनों को पास दिए जाएं।

- कार्यालय में ट्रस्टी शांतनु दीक्षित ने उन्हें उत्सव पर ट्रस्ट की तरफ से की जाने वाली व्यवस्थाओं के बारे में बताया। प्रसाद वितरण और श्रद्धालुओं के द्वारा अर्पित की जाने वाले दान की व्यवस्था को लेकर जानकारी दी। इसके साथ ही निशान लेकर आने वाले श्रद्धालुओं के संबंध में भी चर्चा की। इस दौरान पदमनगर थाना टीआई अंतिम पंवार, मोघट टीआई एसएस बघेल और कोतवाली थाने के एसआई अमित कौरी मौजूद रहे।

रथघर में रखे वाहनों पर पॉलिश

श्री दादाजी दरबार के रथघर में रखे वाहनों पर पॉलिश की जा रही है। बुधवार को यहां रखी कारों को धोया गया। इसके बाद पॉलिश की गई।

परिसर में वॉटरप्रूफ डोम तैयार

दरबार में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए वॉटर प्रूफ डोम तैयार हो गया है। इसके साथ ही दादाजी मंदिरों पर विद्युत सज्जा भी की जा रही है।

मंदिर परिसर में रहेगा क्रंट्रोल रूम

मंदिर परिसर में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। यहां सीसीटीवी कैमरों की बड़ी स्क्रीन लगाई जाएगी। इस पर पुलिस हर गतिविधि पर नजर रखेगी।

25 से अधिक स्टैंड बनेंगे

गौशाला चौराहे पर 25 से अधिक जूता-चप्पल स्टैंड बनाए जाएंगे। यहां टोकन सिस्टम से जूते-चप्पल रखकर श्रद्धालु इन्हें वापस ले सकेंगे।

- 1000 से अधिक पुलिसकर्मी रहेंगे व्यवस्था में तैनात।

- 100 से अधिक पुलिसकर्मी सिविल ड्रेस में भीड़ के बीच रहेंगे मौजूद।

- ड्रोन कैमरों से पुलिसकर्मी भीड़ पर रखेंगे नजर।

Posted By: Nai Dunia News Network