चकाचौंध भरी जिंदगी जीने के शौक में कर्जदार हुई महिला ने अपनी चचेरी बहन से ठगे 12.65 लाख

19केएचए-19

फोटो- मोघट पुलिस की गिरफ्त में आरोपित मकसूद उर्फ जुम्मन और सारिम। नईदुनिया

19केएचए-20

फोटो- रुपये जब्त करने के लिए आरोपित अमरीन को उसके घर ले जाते हुए महिला पुलिसकर्मी। नईदुनिया

- अल्मास नामक युवक से शादी का झांसा देकर की ठगी

- आरोपित अमरीन अली और उसके दो साथी गिरफ्तार

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। चकाचौंध भरी जिंदगी जीने के शौक में कर्जदार हुई महिला ने संभ्रात परिवार के युवक के नाम पर पहले अपनी चचेरी बहन को प्रेम जाल में फंसाया और उससे 12 लाख 65 हजार रुपये ठग लिए। महिला को इस काम में दो लोगों का साथ भी मिला। इस सनसनीखेज मामले का खुलासा नगर पुलिस अधीक्षक पूनमचंद्र यादव ने किया है।

गुरुवार को पुलिस कंट्रोल रूम में नगर पुलिस अधीक्षक यादव ने बताया-16 मई को हातमपुरा निवासी एक युवती ने मोघट थाने में शिकायत की थी। युवती का कहना था कि अल्मास नामक एक युवक ने फोन और इंटरनेट मीडिया पर शादी का प्रस्ताव देकर उससे 10 लाख 65 हजार रुपये ठग लिए। यह रुपये कभी दुर्घटना में तो कभी अलग-अलग कारणों से 13 लोगों के बैंक खाते में जमा करवाए। शिकायत को जांच में लेकर जब मामले की छानबीन की गई तो यह बात सामने आई कि युवती के साथ ठगी करने वाली कोई और नहीं उसी की चचेरी बहन अमरीन अली है। अमरीन ने मकसूद उर्फ जुम्मन और सारिम अली फारुखी निवासी खवासपुरा भोपाल के साथ ठगी की घटना को अंजाम दिया। युवती को ठगने के लिए अमरीन के कहने पर सारिम ने अपने नाम पर एक सिम ली थी। इस सिम में इंटरनेट मीडिया पर अपना अकाउंट बनाया। इसके बाद अल्मास की फोटो अपनी प्रोफाइल पर रख ली। सारिम का अल्मास दोस्त है, जिसके चलते उसके पास उसकी फोटो और कुछ वीडियो थे। इसके बाद अमरीन ने अपनी चचेरी बहन को कहा कि अल्मास रईस घर का है। उसके पास बहुत सारी दौलत है और वह तुझे बहुत प्यार करता है तथा निकाह करना चाहता है। अमरीन की बातों में आकर युवती और अल्मास बनकर फोन पर सारिम के बीच बातचीत होने लगी। करीब छह महीने से काल करके सारिम बात करता तो कभी इंटरनेट मीडिया पर अमरीन ही अल्मास की आइडी से अपनी चचेरी बहन से प्यार भरी बातें करती रही। इधर युवती इनके इरादों को समझ नहीं सकी। इस पूरे मामले को सुलझाने में मोघट टीआइ ईश्वरसिंह चौहान, निरीक्षक गणपत कनेल, एसआइ प्रियंका तोमर, एएसआइ इंद्रजीत चौहान, प्रधान आरक्षक जितेंद्र राठौर, राजीव यादव सहित अन्य की भूमिका रही।

शौक पूरा करने के लिए ले लेती थी कर्जा

दरअसल, इस मामले में मास्टर माइंड अमरीन अली की जीवन शैली उच्च वर्ग की तरह है। 2018 में अमरीन का तलाक हो गया था। उसका एक बेटा भी है। वह अपना शौक पूरा करने के लिए लोगों से रुपये ब्याज पर लेती थी। महिला समूह से भी उसने ऋण ले रखा है। कुछ ही दिन पहले वह अपने परिवार के साथ इंदौर गई थी। यहां उसने एक दिन में 35 हजार रुपये खर्च किए थे। खाने-पीने और अच्छे कपड़े पहनने के साथ महंगी कारों में घूमने के शौक के कारण अमरीन पर दस लाख रुपये से अधिक का कर्ज हो गया। इस कर्ज को चुकाने के लिए अमरीन ने अपनी ही बहन को ठगने की योजना बनाई थी। इसमें वह कामयाब भी हुई।

अल्मास की भूमिका को जांच रही पुलिस

अल्मास का कहना है कि उसे इस मामले को लेकर कुछ नहीं पता लेकिन सवाल यह है कि छह माह से अल्मास का ही दोस्त सारिम उसकी फोटो और कार व बाइक से घूमते हुए उसके वीडियो दिखाकर ठगी कर रहा था। इस बीच अल्मास को इस बात का पता भी नहीं चला। वहीं इस मामले में 13 लोग जिनके खाते में 12 लाख 65 हजार रुपये डाले गए, उनके बारे में भी पुलिस कुछ पता नहीं कर पाई। हालांकि अल्मास को आरोपित नहीं बनाया गया और न ही अल्मास ने अपने फोटो को गलत तरीके से इस्तेमाल करने पर किसी तरह की शिकायत की है। यह सब सवाल पुलिस की अब तक की कार्रवाई पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close