खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भगवंत सागर बांध से सुक्ता बैराज तक पाइप लाइन बिछाकर पानी लाया जाएगा। इस योजना के लिए शासन की ओर से 14 करोड़ रुपये की सैद्धांतिक स्वीकृति दी गई है। इस व्यवस्था से भगवंत सागर बांध से मिलने वाले पूरे पानी का उपयोग शहर में वितरण के लिए किया जा सकेगा। वर्तमान में भगवंत सागर बांध से छोड़े जाने वाले पानी की चोरी ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों द्वारा मोटरपंप लगाकर कर ली जाती है।

सुक्ता फिल्टर प्लांट से वर्तमान में 13 एमएलडी पानी शहर में वितरित हो रहा है। भगवंत सागर बांध से सुक्ता में पानी छोड़े जाने के बाद जसवाड़ी स्थित फिल्टर प्लांट पर फिल्टर किया जाता है इसके बाद इसे सर्किट हाउस स्थित संपवेल में छोड़कर शहर में वितरित किया जाता है। नर्मदा जल योजना की पाइप लाइन फूटने पर शहर में वैकल्पिक रूप से जल वितरण के लिए सुक्ता से बड़ी मदद मिलती है। हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधायकों से विकास कार्यों के लिए प्रस्ताव बनाकर देने के लिए कहा था। विधायक देवेंद्र वर्मा द्वारा भगवंत सागर बांध से सुक्ता तक पाइप लाइन बिछाए जाने का प्रस्ताव भेजा था, जिसे अधोसंरचना निर्माण अंतर्गत सैद्धांतिक स्वीकृति दे दी गई है। नगर निगम को भेजे गए स्वीकृति पत्र में उल्लेख किया गया है कि भगवंत सागर जलाशय से जसवाड़ी फिल्टर प्लांट तक 600 मिमी की 24 इंच पाइप लाइन बिछाई जाएगी। विदित हो कि हाल ही में नौ करोड़ रुपये की लागत से सुक्ता जल प्रदाय योजना भी शुरू की गई है। इस योजना के तहत जसवाड़ी सुक्ता बंधान से खंडवा तक 11 किमी तक पाइप लाइन बिछाई गई है।

आशापुर के पास फूटी नर्मदा की लाइन

मंगलवार को सुबह आशापुर के पास नर्मदा जल योजना की पाइप लाइन फूट गई। पाइप लाइन को अज्ञात लोगों द्वारा सब्बल से क्षति पहुंचाकर तोड़ दिया गया। इससे यहां बड़ी मात्रा में पानी बह गया। सूचना मिलने पर विश्वा कंपनी ने चारखेड़ा फिल्टर प्लांट से पानी की सप्लाय रोक दी। देर शाम तक पाइप लाइन सुधारी जा सकी। पाइप लाइन फूटने की वजह से शहर में नर्मदा जल का वितरण नहीं हो सका। भीषण गर्मी के बीच लोगों को जलसंकट का सामना करना पड़ा। नगर निगम के प्रभारी कार्यपालन यंत्री अंतर सिंह तंवर ने बताया कि बुधवार दोपहर तक शहर में नर्मदा जल का वितरण शुरू हो जाएगा। विदित हो कि कलेक्टर अनूपकुमार सिंह ने कुछ दिनों पूर्व नर्मदा जल योजना की

पाइप लाइन फूटने पर अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर की थी।

साथ ही उन्होंने निर्देश दिए थे कि चारखेड़ा से खंडवा तक बिछी पाइप लाइन की निगरानी की जाए। जिस भी गांव में बार-बार पाइप लाइन फूटती है वहां के ग्रामीणों को समझाइश दी जाए और पाइप लाइन फोड़ने वालों की पहचान कर उसके विरुद्ध प्रकरण दर्ज कराया जाए। इसे निगरानी में लापरवाही ही कहेंगे कि अज्ञात लोगों ने फिर पाइप लाइन को फोड़ दिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close