Khandwa Crime News: खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दोस्तों से मिले हुलिए के आधार पर मोघट पुलिस को एक स्थाई वारंटी को पकड़ने में सफलता मिली है। करीब 20 साल से फरार स्थाई वारंटी इंदौर में किराए का मकान लेकर रह रहा था। पुलिस ने इंदौर में दबिश देकर उसे गिरफ्तार किया। वह ग्रामीण क्षेत्रों में कटलरी और अन्य सामान बेचने का काम कर रहा था। पुलिसकर्मी सेल्समैन बनकर गए थे।

चुनाव को लेकर जिले में स्थाई वारंटियों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस विशेष अभियान के तहत वर्षों से इनामी स्थाई वारंटियों को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। रविवार को मोघट पुलिस ने इंदौर में किराए के मकान में रह रहे आरोपित गोपालदास उर्फ राजकुमार, राजू ठाकुरमल निवासी सिंधी कालोनी को गिरफ्तार किया है।

मोघट टीआइ ईश्वरसिंह चौहान ने बताया कि करीब वर्ष 2002 में आइटीएक्ट में राजकुमार पर प्रकरण दर्ज है। राजकुमार चेक बाउंस के नौ मामलों में आरोपित है। इसके अलावा कोतवाली में उस पर छह प्रकरण दर्ज है। इस तरह से 15 स्थाई वारंट में पुलिस को राजकुमार की तलाश थी लेकिन वह पुलिस के हाथ नहीं आ रहा था। सायबर सेल की मदद से राजकुमार की लोकेशन इंदौर के द्वारकापुरी की मिली, लेकिन पुलिस के पास उसकी तस्वरीर नहीं थी। उसके बारे में पता करने के लिए पुलिस ने उसके दोस्तों की मदद ली।

दोस्तों से पूछा कि राजकुमार दिखता कैसे है, दोस्तों ने उसका हुलिया बताया। इसके बाद एसआइ सोलंकी, आरक्षक महेंद्र वर्मा और सोहन जाट रविवार को सुबह द्वारका पुरी क्षेत्र में पहुंचे। बताए गए हुलिए के आधार पर तलाशी ली गई। इसके आधार पर पुलिस ने प्रथम मंजिल पर रह रहे राजकुमार को पकड़ लिया। आरोपित राजकुमार पर करीब दस हजार रुपये का इनाम रखा हुआ था। वह करीब 20 साल से इंदौर में रह रहा था। यहां उसने कटलरी और अन्य सामान बेचने का काम शुरू किया था। ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर वह सामन बेच रहा था।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close