ओंकारेश्वर (नईदुनिया न्यूज) । दस दिवसीय गणेश उत्सव के अंतिम दिन मूर्ति विसर्जन के लिए तीर्थनगरी में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। नर्मदा को प्रदूषण से बचाने के लिए मूर्ति को विसर्जित करने के लिए तट पर बने कुंड में विर्सजन किया गया। इधर नर्मदा नदी में पानी कम होने से चट्टानों पर परेशानी के बीच श्रद्धालुओं को स्नान करना पड़ा। सोमवार को स्नान-ध्यान पूर्णिमा को देखते हुए लोगों ने नर्मदा का जलस्तर सामान्य रखने की मांग की है।

रविवार को ओंकारेश्वर में छोटे व बड़े गणेशजी की मूर्तियों का विसर्जन किया गया। नगर प्रशासन द्वारा न्यायालय के निर्देश और नर्मदा नदी को प्रदूषण मुक्त रखने को लिए गणेश जी मूर्तियों को ब्रम्हपुरी क्षेत्र में निकाय द्वारा निर्मित कुंड में विसर्जित करवाया गया। दस कार्य में नगर परिषद और राजस्व का अमला दिनभर जुटा रहा। वहीं मोरट्क्का में भी नर्मदा के तट पर बने कुंड में मूर्तियों का विसर्जन किया गया। यहां आसपास के अंचलों के अलावा इंदौर तक से मूर्तियां लाकर विसर्जन किया गया।

सिमटा नर्मदा का जलस्तर

नर्मदा नदी में पानी कम होने से श्रद्धालुओं को चट्टानों पर जान जोखिम में डालकर स्नान करना पड़ा। पर्व पर भी एनएचडीसी द्वारा पानी नहीं छोड़े जाने से लोगों में आक्रोश है। नगर परिषद सीएमओ मोनिका पारधी ने बताया कि गणेश विसर्जन को लेकर कुंड तैयार किया है। आने वाली मूर्तियों को कर्मचारियों द्वारा कुंड में विसर्जन करवाया जा रहा है सुरक्षा की दृष्टि से घाटों पर सुरक्षा नावें लगा दी गई है। नाविकों से भी अपील की गई है कि वह मूर्तियों को नर्मदा नदी की बजाए कुंड में ही विसर्जन करवाने में सहयोग करें।

मूर्तियां विसर्जन के बाद पानी तथा मलबे के लिए गड्ढा खोदकर उचित व्यवस्था की जाएगी।

कंट्रोल रूम मांधाता में सीसीटीवी कैमरे के मानिटर की मदद से संपूर्ण क्षेत्र में निगरानी रखी जा रही है। मांधाता थाने के प्रभारी थानेदार लखनलाल मालवीय द्वारा यातायात व्यवस्था के तहत ब्रह्मपुरी घाट पर मूर्ति विसर्जन के लिए लोगों को भेजा जा रहा है। पुलिस बल व्यवस्था में लगा हुआ है। प्रमुख घाटों सहित मंदिर व प्रमुख मार्गों पर सीसीटीवी कैमरे से सतत निगरानी की जा रही है।

हरसूद : नगर परिषद ने पंडाल में एकत्र कर किया मूर्तियों का विसर्जन

हरसूद। अनंत चतुदर्शी पर नगर परिषद द्वारा नगर में छह स्थानों पर पंडाल लगाकर गणेशजी की मूर्तियां एकत्र कर विसर्जन करवाया गया। भाजपा नेता रामनिवास पटेल ने बताया कि सार्वजनिक व घरों में विराजित गणेश मूर्तियों के विसर्जन की व्यवस्था परिषद की ओर से की गई थी। इसमें राजस्व और नप के कर्मचारियों की तैनाती विभिन्ना स्थानों पर की गई थी। घर से एकत्रित मूर्तियों को विधि-विधान पूर्वक आस्था से घोडापछाड नदी पर ले जाकर विसर्जित किया गया। पंडालों की व्यवस्था का एसडीएम दिलिप कुमार, अध्यक्ष पुष्पा रपटेल, सीएमओ मिलन पटेल ने निरीक्षण कर जायजा लिया।

सिंगोट : जयकारों से लोगों ने गणपति महाराज को दी विदाई

सिंगोट । पिपलोद थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले अचंलों में आस्था के साथ विसर्जन हुआ। गणपति बप्पा मोरिया अगले बरस तू जल्दी आए के जयकारों से लोगों ने गणपति महाराज को विदाई दी। ग्राम सिंगोट में गणपति की मूर्तियों का विसर्जन धूमधाम से किया गया। इसमें ग्राम के चंपा मोहल्ला, टांडा बस्ती, बागलिया मोहल्ला, सुतार मोहल्ला, भील मोहल्ला आदि स्थानों पर विराजमान मूर्तियों को डोंगरघाट भाम नदी और सराय घाट भाम नदी पर ग्रामीणों द्वारा विसर्जन किया गया। भगवान गणेश से कोरोना जैसी महामारी से निजात और देश में खुशहाली व शांति की कामना की गई। ग्राम के सरपंच प्रतिनिधि छोगालाल बोरियाले, भाजपा महामंत्री बसंत तंवर, शांतिलाल यादव, अंकित तिरोले, शुभम यादव, अरविंद पटेल, कार्तिक पटेल, रितिक प्रजापति, रंजीत प्रजापति, प्रीतेश पटेल आदि लोगों ने ग्राम के गणपति विसर्जन में सहयोग प्रदान किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local