बीड़ (नईदुनिया न्यूज)। बीड़ से सात किलोमीटर की दूरी पर स्थित संत सिंगाजी समाधि स्थल पर मकर सक्रांति के पर्व पर गुरुवार को 15 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने समाधि स्थल पर अपने शीश नवाए। समाधि स्थल पर पहुंचे भक्तों ने मां नर्मदा में स्नान किया। समाधि स्थल के प्रमुख महंत रतनलाल महाराज ने बताया कि समाधि स्थल पर पहुंचे भक्तों को रैलिंग द्वारा लाइन से भगवान सिंगाजी महाराज के दर्शन कराए गए। बीड़ निवासी मनोज जैन ने बताया है कि संत की समाधि पर सैकड़ों श्रद्धालु बड़ी आस्था के साथ समाधि स्थल पर पहुंचते हैं लेकिन बाबा की समाधि स्थल पर नारियल चिरौंजी प्रसाद को चढ़ाने की अभी तक अनुमति नहीं मिल पाई है।

कोरोना नियम के पालन को ध्यान में रखते हुए सारे नियमों का ध्यान रख प्रसादी चढ़ाने की अनुमति देना चाहिए। क्योंकि प्रसादी की दुकान लगाने वाले व्यवसायियों के परिवारों पालन-पोषण प्रभावित हो रहा है। समाधि स्थल के नजदीक ही पर्यटन केंद्र हनुवंतिया भी मौजूद है, जहां पर भी लाखों की तादाद में एक माह के जल महोत्सव में पर्यटक पहुंचे हैं। यहां कोविड-19 के नियमों का पालन नहीं हो रहा है। मकर संक्रांति पर यातायात व्यवस्था सुचारु करने के लिए बीड़ पुलिस चौकी प्रभारी विक्रम धारवे, दीपक बिष्ट, हरिओम मीणा सहित सुरक्षा बल तैनात रहा।

-अभी समाधि स्थल पर प्रसाद नहीं चढ़ाया जा रहा है। जो भी भक्त प्रसादी लेकर पहुंचता है, उसे बाहर रखवा दिया जाता है। जैसे ही प्रशासन अनुमति देता है, समाधि स्थल पर प्रसाद चढ़ाना शुरू कर दिया जाएगा -रतनलाल महाराज, समाधि स्थल प्रमुख

-जनवरी के अंत तक सारे धार्मिक स्थलों पर प्रसादी चढ़ाने की अनुमति दे दी जाएगी। क्योंकि अब कोरोना मरीजों की संख्या का ग्राफ भी काफी घट चुका है। वहीं वैक्सीन भी अब मौजूद हो गई है।- सीएस सोलकी एसडीएम, पुनासा

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस