- 50 से 60 कि मी दूर से उपज बेचने आ रहे कि सान हो रहे परेशान

- कि सान संघ ने उठाई प्लेट कांटे से तुलाई की मांग

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। समर्थन मूल्य पर चने की उपज बेचने में कि सानों की फजीहत हो रही है। उपज की तुलाई के लिए कि सानों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। इंदौर रोड स्थित नेशनल वेयर हाउस पर स्थिति यह है कि तीन दिन में कि सानों का तुलाई के लिए नंबर आ रहा है। ऐसे में सबसे ज्यादा फजीहत दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों से आ रहे कि सानों की हो रही है।

समर्थन मूल्य पर देरी से चने की खरीदी शुरू होने का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। कि सानों की बेहाली का नजारा इंदौर रोड स्थित वेयर हाउस पर देखी जा सकता है। यहां प्रतिदिन ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर चने की उपज बेचने आ रहे कि सानों को तीन दिन बाद लौटना पड़ रहा है। भीषण गर्मी के बीच अपनी बारी का इंतजार कर रहे कि सान शासन की नीतियों को कोसते नजर आ रहे हैं। ग्राम अतर, भैरुखेड़ा, कांकरिया, खार, बखार, बांगरदा, पोखर सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्रों से आ रहे कि सानों ने कहा कि वेयर हाउस पर चने की खरीदी धीमी गति से चल रही है। यही कारण है कि कि सानों के वाहनों की कतार लग रही है। तेज धूप में ट्रैक्टर-ट्रॉली कतार में लगाने वाले इन कि सानों के लिए आसपास पानी तक की व्यवस्था नहीं की गई है। कि सानों ने कहा कि शाम 7 बजे तक नंबर नहीं आने पर सड़क कि नारे ही रात बितानी पड़ रही है। धूप से बचने के लिए आसपास टेंट तक नहीं लगाया गया है। भारतीय कि सान संघ ने कि सानों की समस्या को देखते हुए उपज की तुलाई प्लेट कांटे से कराए जाने की मांग उठाई है। जिला संयोजक सुभाष पटेल ने कहा कि यदि प्लेट कांटे से तुलाई होती है तो कि सान को लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इस संबंध में कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा जाएगा।

29के एचए-35 - फोटो- इंदौर रोड स्थित नेशनल वेयर हाउस पर लगी ट्रैक्टर-ट्रॉली की कतार। नईदुनिया

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना