- इंदिरा कालोनी में भ्रमण करने पहुंची निगमायुक्त से लोगों ने की शिकायत

- एक महीने से जल संकट झेलने को मजबूर क्षेत्रवासी

- नईदुनिया मुहिम

खंडवा(नईदुनिया प्रतिनिधि)। नर्मदा जल योजना के तहत नल कनेक्शन लेने के बाद भी लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। यह स्थिति करीब एक महीने से बनी हुई है। जलसंकट का सामना करने वाले लोगों का कहना है कि जब पानी ही नहीं दिया गया तो फिर नगर निगम द्वारा जल कर क्यों वसूला जा रहा है। शुक्रवार को निगमायुक्त सविता प्रधान ने खानशाहवली वार्ड की इंदिरा कालोनी में निरीक्षण किया तो लोगों ने जलसंकट की स्थिति से अवगत कराया। निगमायुक्त ने व्यवस्था में बेहतर सुधार नहीं होने तक टैंकरों से जलापूर्ति का आश्वासन दिया है।

चारखेड़ा स्थित फिल्टर प्लांट पर इंटकवेल में गाद के कारण नर्मदा जल की आपूर्ति लगातार प्रभावित हो रही है। यहां चार दिन से दो ही मोटरपंप चलने की वजह से शहर में पर्याप्त पानी का वितरण नहीं हो पा रहा है। शहर में लगातार चौथे दिन भी मटमैले पानी का वितरण हुआ। ऐसे में लोग पेयजल के लिए परेशान होने को मजबूर हैं। नर्मदा जल की लाइन से नल कनेक्शन लेने के बाद भी जल संकट का सामना करने वालों का आक्रोश नगर निगम के खिलाफ बढ़ता जा रहा है। इनका कहना है कि जब 200 रुपये महीना पानी का टैक्स लिया जा रहा है तो पानी की पर्याप्त आपूर्ति भी की जानी चाहिए। शुक्रवार को खानशाहवली वार्ड में बेड़ी पर स्थित इंदिरा कालोनी के रहवासियों ने कुछ इसी तरह की शिकायत निगमायुक्त सविता प्रधान से की। यहां की महिलाओं ने बताया कि उन्होंने नल कनेक्शन इस उम्मीद से लिए थे कि गर्मी में जल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा लेकिन करीब एक महीने से क्षेत्र में पर्याप्त पानी वितरित नहीं हुआ है। शिकायत मिलने पर निगमायुक्त ने निगम के सब इंजीनियर संजय शुक्ला को निर्देश दिए कि जब तक नर्मदा जल के वितरण की व्यवस्था पूरी तरह से सुचारू नहीं हो जाती है तब तक क्षेत्र में टैंकरों से पानी दिया जाए। विदित हो कि इंदिरा कालोनी की महिलाओं ने गुरुवार को नगर निगम पहुंचकर निगमायुक्त को जल संकट सहित सफाई व्यवस्था को लेकर समस्या बताई थी। इसके बाद निगमायुक्त प्रधान ने महिलाओं को आश्वासन दिया था कि वे उनके क्षेत्र में भ्रमण करने के लिए जरूर आएंगी। दूसरे ही दिन निगमायुक्त लोगों की समस्या सुनने के लिए क्षेत्र में पहुंच गईं। इस दौरान उन्हें रहवासियों ने बताया कि क्षेत्र में नालियों का निर्माण नहीं होने से गंदगी का सामना करना पड़ रहा है। निगमायुक्त ने जोन प्रभारी जाफर अहमद को व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए।

नाले जैसा गंदा पानी दिया, लोगों में आक्रोश

शुक्रवार को भी शहर में मटमैले पानी का वितरण हुआ। टैगोर कालोनी में महज पांच मिनट के लिए नर्मदा जल का वितरण हुआ। लोगों ने कहा कि नाले जैसा गंदा पानी हमें पीने के लिए वितरित किया जा रहा है। शहर की जनता के साथ नगर निगम द्वारा अन्याय किया जा रहा है।

- टैगोर कालोनी निवासी अनिता धोत्रे ने कहा कि एक महीने से पानी की समस्या बनी हुई है। चार घंटे तक मोटरपंप चलाने के बाद भी पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। सीएम हेल्प लाइन में शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है। विश्वा कंपनी के कर्मचारियों को काल किया तो कहते हैं फिलहाल जल वितरण की कोई संभावना नहीं है।

- क्षेत्र के अमित बेदानी ने कहा कि नगर निगम द्वारा काढ़े जैसा गंदा पानी दिया जा रहा है। पानी इतना गंदा है कि इसे जानवरी भी नहीं पी सकते हैं। हम पानी का टैक्स जमा करते हैं तो पेयजल शुद्ध और पर्याप्त मात्रा में मिलना चाहिए।

- रविंद्रसिंह यावद ने कहा कि एक महीना हो गया है नगर निगम द्वारा पर्याप्त पानी नहीं दिया गया है। टैक्स जमा करने में अगर देरी हो जाती है तो दंड लगा दिया जाता है। चारखेड़ा फिल्टर प्लांट पर यदि गाद जमा हो रही है तो अन्य वैकल्पिक साधनों से शहर में जलापूर्ति की जाए।

- क्षेत्र की डा.संतोषी ने कहा की नगर निगम द्वारा चार दिन से कुछ मिनट ही नल दिए जा रहे है लेकिन यह पानी भी पीने योग्य नहीं है। ऐसा कब तक चलेगा। क्षेत्र में लोगों को पानी के लिए दूर-दूर तक भटकना पड़ रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags