सिंगोट (नईदुनिया न्यूज)। पंधाना विकासखंड के सिंगोट ब्लाक में मानसून की पहली झमाझम बारिश के चलते सामने मंगलवार शाम नदी-नाले उफान पर आ गए। इससे सिंगोट ग्राम में नाला उफनने से घरों में पानी घुस गया। वहीं सिंगोट- गांधवा के बीच नेपानगर मार्ग पर पुलिया का एक हिस्सा बह जाने से जमीन पोली हो गई। ऐसे में बड़े वाहनों को आवाजाही में दिक्कत हुई। तेज बारिश के कारण भाम नदी-नालों के किनारों पर स्थित कई खेतों में जलभराव और मेढ़ टूटने से मिट्टी बहने पर बोवनी को लेकर किसानों की चिंता बढ़ गई है। गनीमत रही कि कहीं से कोई बड़ी नुकसानी या जनहानि सामने नहीं आई है।

सिंगोट में गांव के बीच से बहने वाला नाला हर वर्ष बरसात में परेशानी की वजह बन जाता है। मंगलवार दोपहर क्षेत्र में हुई तेज बारिश से नाले किनारे के कई घरों में पानी घुस गया। इससे लोगों का गृहस्थी का सामान भींग गया। वहीं शासकीय कार्यालय भवनों में भी पानी घुसने पर दस्तावेजों को सुरक्षित रखने के लिए कर्मचारियों को मशक्कत करनी पड़ी। इसी तरह सिंगोट-गांधवा मार्ग पर गांधवा के पास दुबियाखेड़ी पर पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई है। पुलिया के पाइप चोक होने से पानी ने पुलिया के एक हिस्सों को क्षतिग्रस्त कर दिया। यहां से बड़े वाहन निकलने पर दुर्घटनाओं का आदेश भी बना हुआ है ।ग्रामीणों ने बताया कि पीडब्ल्यूडी में यह पुलिया के तीन वर्ष पूर्व टेंडर भी हो चुके है, लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के चलते पुलिया निर्माण कार्य को प्रारंभ नहीं किया गया। छोटी पुलिया की वजह से हर बार किसानों का काफी नुकसान होता है। अब तो यह हालत हो गई कि यह पुलिया कभी भी पूरी तरह ढ़ह सकती है। इससे सिंगोट से गांधवा, नेपानगर मार्ग से आवाजाही थम सकती है।

सिंगोट में पटवारी कार्यालय और इससे सटे कृषि विभाग के ग्राम सेवक कार्यालय में भी नाले का पानी घुस गया। बताया जाता है कि यहां किसानों को बोवनी के लिए देनें को तुवर की बीजाइ रखी हुई है। जो कि पानी घुसने की वजह से खराब हो चुका होगा। कार्यालय में ताला लगा हुआ होने के कारण अभी यह स्पष्ट नहीं हो सकी हैं। खंड कृषि विस्तार अधिकारी उमा शंकर आर्य का मोबाइल बंद होने से जानकारी नहीं मिल सकी। ग्राम सिंगोट के पटवारी दिलीप सैनी ने बताया कि पानी राजस्व कार्यालय में भी घुस गया था लेकिन दिन का समय होने और कर्मचारी उपस्थित रहने से कोई क्षति नहीं हुई। कार्यालय बन्द रहता तो सारा रिकार्ड बर्बाद हो सकता था। क्षेत्र में बारिश से क्या नुकसानी हुई इसकी अभी कोइ सूचना नहीं मिली है।

पुलिया पर पानी आने से थमी आवाजाही

सिंगोट क्षेत्र में बुधवार शाम को फिर मानसून मेहरबान होने से नदी-नाले उफान पर आ गए। नेपानगर मार्ग पर गांधवा के निकट मंगलवार को क्षतिग्रस्त हुई पुलिया के उपर से पानी बहने के कारण करीब तीन घंटे आवाजाही थमी रही। बुधवार को शाम पांच बजे से करीब पौन घंटे तक क्षेत्र में तेज बारिश हुई। इससे अंचल तरबतर हो गया। दो दिनों से जोरदार बारिश के कारण क्षेत्र में बोवनी का कार्य रूक गया है। तेज बारिश से ग्राम दुबियाखेड़ी के निकट पुलिया पर पानी आने से यातायात ठप रहा। इस दौरान दोनों ओर वाहनों और लोगों की भीड़ लग गई। कई लोगों ने खतरा उठाकर पैदल पुलिया पार की। वहीं गांधवा से खंडवा आने वाली बस भी वहीं खड़ी रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags