Khandwa news: खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सुरक्षित यातायात अभियान अंतर्गत नईदुनिया द्वारा स्कूलों में विद्यार्थियों को सड़क पर वाहन चलाने और पैदल चलने में बरती जाने वाली सजगता के प्रति जागरूक किया जा रहा है। इस कड़ी में गुरुवार को सरस्वती शिशु मंदिर आनंद नगर में विद्यार्थियों को यातायात नियमों की जानकारी दी गई। संस्था प्राचार्य देवेंद्र जोशी ने हाईस्कूल और हायर सेकंडरी के विद्यार्थियों को बताया कि यातायात नियमों का पालन और सजगता से काफी हद तक दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है। अधिकांश दुर्घटनाएं जल्दबाजी और नियमों की अहवेलना की वजह से होती है। दुर्घटना के शिकार होने वालों में सबसे अधिक संख्या युवाओं की है। साथ ही नियम उल्लंघन पर जुर्माना और सजा की जानकारी भी दी गई। छात्र-छात्राओं को इस बात के लिए प्रेरित किया जा रहा है। वह अपने अभिभावकों को नियमों के उल्लंघन पर रोके-टोंके। ऐसा करने पर ही सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सकती है।

स्पीड ब्रेकर पर धीमा करें वाहन

विद्यार्थियों को वाहन चलाते समय सड़क पर लगे संकेतकों का ख्याल रखने की समझाइश दी गई। प्राचार्य जोशी ने बताया कि शहरी क्षेत्र में स्कूल, अस्पताल या गांव की सीमा शुरू होने से पहले वाहन की गति धीमी करने के लिए स्पीड ब्रेकर बनाए जाते हैं। इसका संकेतक बोर्ड करीब 200 मीटर पहले लगा होता है। हमें स्पीड के पहले वाहन की गति नियंत्रित करना चाहिए। इससे दुर्घटना को रोका जा सकता है।

ओवर लोडिंग और स्पीड घातक

विद्यार्थियों को में सड़क ट्रैफिक लाइटों के अर्थ और उनके अनुपालन के संबंध में हिदायत दी गई। इसमें लाल, पीली और हरी बत्ती का अर्थ बताते हुए इसके पालन की बात कही गई। है ट्रैफिक लाइट और संकेतकों के अलावा बालिग होने पर ही वाहन चलाने और क्षमता के अनुसार ही सवारी करने की समझाइश दी गई। विद्यार्थियों को बताया कि वाहन चलाते समय ओवर स्पीड और ओवर लोडिंग दोनों घातक होती हैं। नियंत्रित गति में वाहन चलाकर हम गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। सड़क पर कभी भी वाहन चलाते समय स्टंट न करें। ऐसा करने पर हम अपने साथ दूसरों की जान से भी खिलवाड़ करेंगे। वाहनों को सड़क पर पार्क करने की बजाए निर्धारित स्थल पर खड़ा करें। इससे दुर्घटना और यातायात जाम की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

विद्यार्थियों से भी पूछे सवाल

आयोजन में यातायात से संबंधित विषयों पर विद्यार्थियों से सवाल भी पूछे गए। बच्चों ने भी इनके उत्साह से उत्तर दिए। साथ ही अपनी जिज्ञासाओं के बारे में एक्सपर्ट से जानकारी ली। बच्चों से कहा कि दुर्घटनाओं से बचने के लिए दोपहिया पर हेलमेट और कार में सीट बेल्ट का उपयोग जरूर करें। उन्होंने हिदायत दी कि वाहन चलाते समय मोबाइल फोन का प्रयोग बिलकुल न करें। यदि अभिभावक ऐसा करें तो उन्हें टोक दें। इस अवसर पर विद्यार्थियों के अलावा समाजसेवी कौशल मेहरा, शिक्षक सखाराम गुरव, जितेंद्र सोमानी, मोनिका राठौर, वंदना बर्वे, विजेता बिल्लौरे आदि मौजूद थे।

Morena News: हरियाणा के पूर्व मंत्री करतार सिंह भड़ाना को मिली जमानत, 27 घंटे बाद जेल से छूटे

Madhya Pradesh News: दिव्यांग सदस्यों के लिए आजीवन रहेगी परिवार पेंशन की पात्रता, आयु का बंधन होगा समाप्त

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close