खंडवा, नईदुनिया प्रतिनिधि। तीन तलाक एक गलत फैसला है। यह हमारे मुल्क में सरकार द्वारा लगाया गया काला कानून है। इस पर गौर-ओ-फिक्र किया जाना चाहिए। जब शौहर ही जेल में चला जाएगा तो औरत किसके भरोसे रहेंगी। जिंदगी के तीन साल उसे खाना-खर्चा कौन देगा। तीन तलाक के इस फैसले पर ज्ञानियों को बैठाकर फिर से निर्णय लिया जाना चाहिए।

सोमवार को यह बात ईदगाह मैदान में ईद की मुख्य नमाज से पहले मौलाना सरफुद्दीन अहमद कादरी ने कही। मौलाना ने कहा कि मैं ईद-उल-अजहा के मैदान से अपील करता हूं कि आप लोगों की गफलती और नासमझी की वजह से हुआ है। घर में शौहर और बीवी में अनबन बने और बात तलाक तक पहुंचे तो दोनों तरफ के लोगों को बैठकर उलेमा और काजी के साथ चर्चा करके मिलाप की कोशिश करनी चाहिए। आज के नौजवान आटे में नमक और मसाला कम हो जाए तो बीवी को तलाक दे रहे हैं। औरत घर में देर से आई तो तलाक दे रहे हैं। ये जहालत है। इसी की बुनियाद पर सरकार को फैसला लेना पड़ा।

वाट्सएप पर तलाक देने की निंदा

मौलाना ने वाट्सएप और सोशल मीडिया के माध्यम से तलाक दिए जाने की भी निंदा की। उन्होंने समाज से मिल-जुलकर रहने की अपील की। मौलाना द्वारा दिए जा रहे बयानों के दौरान आयोजन स्थल पर सीएसपी ललित गठरे, एसडीएम संजीव पांडे सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

नमाज के बाद एक-दूसरे को दी मुबारकबाद

ईदगाह पर सुबह 9.30 बजे पर्व की विशेष नमाज हुई। नमाज नायब शहर काजी सैयद निसार अली की मौजूदगी में मौलाना सरफुद्दीन अहमद कादरी द्वारा पढ़ाई गई। मुख्य नमाज के बाद समाजजनों ने एक-दूसरे से गले मिलकर ईद-उल-अजहा की मुबारकबाद दी। इस मौके पर ईदगाह मैदान पर नगर निगम द्वारा लगाए गए पंडाल में कलेक्टर तन्वी सुंद्रियाल, पुलिस अधीक्षक शिवदयाल सिंह, निगमायुक्त हिमांशु सिंह, उपायुक्त दिनेश मिश्रा मौजूद रहे। सभी ने समाजजनों को ईद की मुबारकबाद दी। ईदगाह के अलावा शहर की अन्य मस्जिदों में भी ईद की नमाज हुई। इसके बाद दिनभर कुर्बानी और दावतों का सिलसिला चलता रहा।

ईद पर पुख्ता रही सुरक्षा व्यवस्था

ईद पर सोमवार को पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था रही। मुस्लिम बहुल क्षेत्रों के मुख्य मार्ग और चौराहों पर भीड़ के चलते चार पहिया व भारी वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध रहा। करीब 350 पुलिसकर्मियों ने सुरक्षा व्यवस्था संभाली। संवेदनशील और मुख्य चौराहों पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी रही।

बड़ाबम से इमलीपुरा क्षेत्र में भारी वाहनों का आवागमन नहीं हो सका। नेहरू स्कूल चौराहे से भी इमलीपुरा क्षेत्र में भारी वाहनों का प्रवेश निषेध रहा। स्लॉटर हाउस भी पुलिस की नजर में रहा। सीसीटीवी कैमरों से नजर रखने के साथ ही मोघट टीआई एसएस बघेल ने स्लाटर हाउस का जायजा लिया। पुलिस अधीक्षक डॉ.शिवदयाल सिंह ईद के पूर्व रविवार को देर रात तक शहर का भ्रमण करते रहे। इमलीपुरा चौराहे पर उन्होंने लोगों से मुलाकात कर शांति बनाए रखने की अपील की।

विवाद के बाद पुलिस बल तैनात

सिहाड़ा में दोपहर को रंजिश के चलते दो पक्षों में विवाद हो गया। खेत में जमकर दोनों पक्षों के बीच मारपीट हो गई। यह जानकारी गांव में लगते ही दोनों पक्षों के समर्थक जमा होने लगे। बड़े विवाद की आशंका के चलते मोघट थाना टीआई एसएस बघेल, एसआई सुसा परते ने पुलिसकर्मियों के साथ गांव पहुंचकर स्थिति को संभाला। गलियों में घूमकर पुलिसकर्मी नजर रखते रहे। गांव के मुख्य दोनों चौराहों पर पुलिसकर्मी तैनात रहे। टीआई बघेल ने बताया कि रंजिश के चलते विवाद हुआ था। गांव में स्थिति सामान्य है। दोनों पक्षों ने शिकायत की है। मामले की जांच कर रहे हैं। इसके बाद केस दर्ज किया जाएगा।