खंडवा(नईदुनिया प्रतिनिधि)। उत्तरी हवाओं के प्रभाव से रात के तापमान में लगातार गिरावट आ रही है। पिछले 24 घंटे में रात का तापमान तीन डिग्री तक कम हुआ है। वहीं दिन के तापमान में दो डिग्री की बढ़त दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार हिमालय क्षेत्र में बर्फ लगातार गिर रही है जिससे शीत लहर की संभावना भी बनी हुई है। गुरुवार को दिन का तापमान 27.1 डिग्री व रात का तापमान 9.4 डिग्री पहुंच गया।

गुरुवार को सुबह से धूप तो निकली लेकिन ठंडी हवाओं का असर दिन भर जारी रहा। शाम होते ही ठिठुरन भी तेज हो गई। पिछले कुछ दिनों से रात का तापमान कम व दिन के तापमान में बढ़त हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार पिछले कुछ दिनों तक रात के तापमान में कमी की संभावना बन रही है। जिसके कारण शीत लहर की संभावना भी बन रही है। किसी भी सिस्टम के हवा के ऊपरी क्षेत्र में अधिक सक्रिय नहीं होने से उत्तरी हवाएं पहुंच रही है। जिससे तापमान में भी गिरावट दर्ज हो रही है।

शीत लहर से बचाव के उपाय करें

सीएमएचओ डॉ. डीएस चौहान ने नागरिकों से अपील की है कि शीत-घात से बचाव के उपाय करें क्योंकि शीत लहर की वजह से स्वास्थ्य संबंधी अनेक समस्या हो सकती है। शीत लहर से बचाव के लिए पर्याप्त मात्रा में गर्म कपड़े रखें। शीत लहर के समय बीमारियों की संभावना अधिक बढ़ जाती है। फ्लू , सर्दी, खांसी एवं जुकाम आदि के लक्षण हो जाने पर स्थानीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं या चिकित्सक से संपर्क करें। शीत लहर के दौरान नियमित रूप से गर्म पेय पीते रहे।

इनका रखे ख्याल

इस दौरान दस्ताने, टोपी, मफलर एवं जूते आदि पहनें। चुस्त कपड़े ना पहनें क्योंकि ये रक्त संचार को कम करते हैं। जितना संभव हो सके घर के अंदर ही रहें और कोशिश करें कि अति आवश्यक हो तो बाहर यात्रा करें। कोविड-19 एवं अन्य श्वसन संक्रमण से बचने के लिए बाहर जाने पर अनिवार्य रूप से मास्क पहनें। पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों से युक्त भोजन ग्रहण करें। शरीर की प्रतिरक्षा बनाए रखने के लिए विटामिन-सी से भरपूर फल और सब्जियां खाएं। नियमित रूप से गर्म तरल पदार्थ अवश्य पीए। अत्यधिक ठंड के समय दीर्घ कालीन बीमारियों जैसे डायबिटीज, उच्च रक्तचार, श्वास संबंधी बीमारियों वाले मरीज, वृद्ध पुरूष, महिलाएं जिनकी आयु 64 वर्ष से अधिक, छह वर्ष से कम आयु के बच्चे, गर्भवती महिलाएं आदि की ऐसी स्थिति में देखभाल करें। अधिक ठंड पड़ने पर पर्याप्त वेंटिलेशन होने पर ही रूम हीटर का उपयोग करें। बंद कमरे को गर्म करने के लिए कोयले का उपयोग न करें। यह कोयला जलने पर कार्बन मोनोऑक्साइड उत्पन्ना होती है। हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है जिससे किसी की भी मृत्यु हो सकती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस