खंडवा। मध्य प्रदेश के खंडवा जिले के पर्यटन स्थल हनुवंतिया में 16 अगस्त को परिजन के साथ मारपीट से जम्मू-कश्मीर में आईटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) में पदस्थ फौजी अमित सिंह आहत हैं।

आरोपितों पर कार्रवाई नहीं होने से नाराज अमित ने फेसबुक पर लिखा कि मध्य प्रदेश सरकार हनुवंतिया टूरिस्ट कॉम्प्लेक्स वाले हादसे पर मेरे परिवार और भाई के साथ न्याय करे। एक नया पानसिंह तोमर बनने के लिए मजबूर न करे। मुझे बंदूक चलाने की ट्रेनिंग नहीं लेना पड़ेगी। अमित ने यह पोस्ट 20 अगस्त को लिखी थी, जो अब वायरल हो रही है।

अमित ने सरकार से मांग की है कि वह उनके भाई की आंख ठीक कराकर दे। फौजी सरहद पर सबकी सुरक्षा के लिए लड़ता है तो उसके परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी सरकार की होती है। पयर्टन स्थल पर बच्चों के लिए दूध और पानी ले जाना कहां तक गलत है। सिर्फ इन दो चीजों को ले जाने से रोकते हुए सुरक्षा गार्ड और मोटरबोट के कर्मचारियों ने उसके परिवार पर जानलेवा हमला कर दिया।

मालूम हो, 16 अगस्त को खंडवा जिले के मूंदी निवासी अतुलसिंह, विपुल सिंह और आशीष सिंह पत्नी और बच्चों के साथ हनुवंतिया गए थे। यहां गेट पर सुरक्षा गार्ड ने उनके बैग चेक किए। बैग में बच्चों के लिए दूध और पानी की बोतल रखी थी। गार्ड ने इन्हें अंदर ले जाने से मना किया। इस पर गार्ड और मोटरबोट के कर्मचारियों ने तीनों से मारपीट की।

इस दौरान अतुल सिंह की आंख में पानी की बोतल मार दी गई। इससे रेटिना खराब हो गया और उन्हें इंदौर रेफर किया गया। उनकी आंख करीब 80 प्रतिशत खराब हो गई है और अभी तक घाव नहीं भर पाया है। दूसरी तरफ, पुलिस ने सुरक्षा गार्ड चरणसिंह और मुकेश के अलावा अन्य लोगों पर केस दर्ज किया था। दूसरे दिन पुलिस ने अतुल सिंह और उनके दोनों भाइयों पर भी काउंटर केस दर्ज कर लिया। इस मामले में फौजी परिवार के साथ नगरवासियों ने एक ज्ञापन भी पुलिस को सौंपकर उचित कार्रवाई की मांग की थी।

पुलिस ने मामला ठंडे बस्ते में डाला

घायल अतुल के मूंदी निवासी भाई आशीष सिंह ने बताया कि पुलिस ने मारपीट करने वालों को गिरफ्तार नहीं करते हुए, उल्टा उन पर ही केस दर्ज कर लिया है। वहीं, मूंदी थाना प्रभारी अंतिम पवार ने बताया कि दोनों पक्षों की शिकायत पर काउंटर केस दर्ज है। घायल अतुल की मेडिकल रिपोर्ट आ गई है। इसके आधार पर आरोपितों पर धाराएं बढ़ाई जाएंगी। आरोपितों को शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उधर, अमित सिंह की पोस्ट के समर्थन में कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी है। उनके मित्र नितिन भगत ने पोस्ट किया है कि सैनिक परिवार के साथ तो राजनीति मत करो, किसी दिन सैनिक ने कूटनीति चालू कर दी तो तुम्हारी राजनीति सूज जाएगी।

मारपीट की निष्पक्ष जांच होगी

जवान के परिवार के साथ मारपीट की घटना पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निष्पक्ष जांच के आदेश दिए हैं। प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जवान से कहा गया है कि वे चिंता न करें। उनके परिवार को सरकार पूरी सुरक्षा देगी। मुख्यमंत्री ने खंडवा जिला प्रशासन को निर्देश देते हुए अमित सिंह के परिवार के साथ हुई घटना की निष्पक्ष जांच करने को कहा है।

सीएम को धन्यवाद भी दिया

मप्र सरकार के तुरंत एक्शन पर अमित सिंह ने अब आभार का ट्वीट भी किया है। इसमें उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा खंडवा कलेक्टर को निष्पक्ष जांच के आदेश दिए हैं। पूरी उम्मीद है कि मुख्यमंत्री मेरे परिवार के साथ अन्याय नहीं होने देंगे।

Posted By: Hemant Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020